udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news यूरोप में बर्फीले तूफान का कहर, यातायात बाधित, बिजली गुल, 3 मरे

यूरोप में बर्फीले तूफान का कहर, यातायात बाधित, बिजली गुल, 3 मरे

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लंदन। यूरोप में बर्फीले तूफान एलियानोर ने बड़े पैमाने पर लोगों के लिए दिक्कतें पैदा की हैं। बर्फीले तूफान के कारण अभी तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है। यातायात बुरी तरह बाधित हुआ है और हजारों घरों की विद्युत आपूर्ति ठप पड़ी है।

स्पेन के उत्तरी बॉस्क तट पर बुधवार को दो व्यक्ति समुद्र की तेज लहरों में बह गए जबकि फ्रांस में आल्प्स पहाडिय़ों पर एक पेड़ टूटने से उसके नीचे दबने से एक स्की करने वाले की मौत हो गई। हालैंड में प्रशासन ने पहली बार सभी पांच समुद्री बैरियर को बंद कर दिया है, हालांकि बाद में दो को खोल दिया गया। एम्सटरडम हवाईअड्डे पर 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बर्फीली हवाएं चलीं जिसके कारण सैकड़ों उड़ानें रद्द करनी पड़ी हैं।

फ्रांस में विभिन्न स्थानों पर 15 लोग घायल हो गए हैं। वहां 147 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से हवा चली है। पेरिस में तेज हवाओं के चलते एफिल टॉवर बंद कर दिया गया था। इस दौरान वहां पार्को को भी बंद कर दिया गया था। स्विट्जरलैंड में इतनी तेज हवा चली कि एक रेलगाड़ी ही पटरी से उतर गयी जिससे आठ लोग घायल हो गए।

देश में लगभग 14000 घरों की विद्युत आपूर्ति ठप हो गयी है। यहां ल्यूकेर्ने नगर के पास तूफानी हवा की रफ्तार 195 किलोमीटर प्रति घंटे दर्ज की गई। सेंट गालेन कैंटन में कई लोग स्की लिफ्ट में फंस गए। बर्न में तेज हवाओं के कारण एक हल्का विमान पलट कर एक 13 मीटर लम्बे क्रिसमस ट्री से टकरा गया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तूफान से जर्मनी और ऑस्ट्रिया में कई स्थान प्रभावित रहे। किजबुहेल में तूफान के कारण क्षतिग्रस्त हुई एक केबिल कार में फंसे 20 स्की करने वालों को बचाकर निकाला गया।

बेल्जियम में आपातकाल अलर्ट के चार चरणों में तीसरा चरण ऑरेंज अलर्ट जारी हो गया है। यहां तूफान के कारण हवा में उड़ रहीं भारी वस्तुओं और टूटते पेड़ों के कारण प्रशासन ने बाहर निकल रहे लोगों को सतर्कता बरतने को कहा है। युनाइटेड किंगडम में तूफान के बाद यातायात व्यवस्था बाधित हुई है और हजारों घरों की विद्युत आपूर्ति ठप पड़ गई है।

मौसम विभाग के अनुसार बुधवार रात तूफान की रफ्तार 160 किलोमीटर प्रतिघंटे दर्ज की गई जबकि इंग्लैंड, वेल्स, उत्तरी आयरलैंड का अधिकतर भाग और दक्षिणी स्कॉटलैंड में कुछ भागों में अभी भी मौसम को लेकर येलो वार्निग जारी है।

ब्रिटेन में तूफान से सबसे ज्यादा नुकसान उत्तरी कार्नवाल के तटीय नगरों और गांवों को हुआ है। तूफान के कारण बंदरगाहों को बहुत नुकसान हुआ है और काउंटी में कारों और अन्य सम्पत्तियों को पानी में तैरते देखा जा सकता है। आयरलैंड में बाढ़ आने से यातायात बाधित हो गया है और इमारतों को नुकसान पहुंचा है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •