udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news वोटों की सेल:  कांग्रेस- 600, BJP-500 रुपये !

वोटों की सेल:  कांग्रेस- 600, BJP-500 रुपये !

Spread the love
  • 13
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    13
    Shares
बेंगलुरु: वोटों की सेल:  कांग्रेस- 600, BJP-500 रुपये ! पुलिस का भारी बंदोबस्त…चुनाव आयोग के फ्लाइंग स्क्वॉड्स…सरकारी निगरानी अमला…इन सब के बावजूद कर्नाटक की बेंगलुरु साउथ सीट पर राजनीतिक दलों के लिए कुछ लोगों को शनिवार को वोट खरीदते देखा गया. इंडिया टुडे की स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम ने पोलिंग बूथ्स के बाहर ही ऐसे लोगों को कैमरे में कैद किया.    
बीजेपी और कांग्रेस के कार्यकर्ता पोलिंग बूथ के बाहर एक वोट के लिए 500-600 रुपये देते देखे गए. इंडिया टुडे के इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टर्स ने शनिवार को कर्नाटक में मतदान के दिन सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर तक इस ‘वोट घूसखोरी’ को कैमरे में पकड़ा. बेंगलुरु साउथ विधानसभा सीट से कांग्रेस के आर के रमेश और बीजेपी के निवर्तमान विधायक एम कृष्णाप्पा भाग्य आजमा रहे हैं.
श्रीमती नलिनि रघुनाथ राव डिग्री कॉलेज में स्थित पोलिंग बूथ के बाहर कांग्रेस का एक कार्यकर्ता वोटर आईडी कार्ड चेक करने के बाद चिट के साथ 600 रुपये नकद दे रहा था. पैसा लेने के इच्छुक लोग खुद ही कांग्रेस के इस कार्यकर्ता के पास पहुंच रहे थे.
एक शख्स ने कहा, ‘मेरे पास दो चिट और दो वोट हैं.’ पार्टी कार्यकर्ता ने कहा, ‘जाओ पहले वोट देकर आओ, फिर अपनी पत्नी को लाना. उसके वोट के लिए भी मैं तुम्हें पैसे दूंगा. तुम चिंता मत करो.’
जब एक महिला मतदाता ने नकद रकम नहीं मिलने की शिकायत की तो पार्टी कार्यकर्ता ने कहा कि उसने महिला के पति को रकम दे दी है. उसने महिला से कहा, ‘तुम्हारा पति मुझे बहुत समय से जानता है.’
बेंगलुरु साउथ के ही गवर्नमेंट उर्दू हायर प्राइमरी स्कूल में भी नजारा कुछ अलग देखने को नहीं मिला. यहां बीजेपी के निवर्तमान विधायक का समर्थक कैश बांटने के साथ ‘वोट फ़ॉर मोदी’के नारे भी लगा रहा था. इसका तरीका भी वैसा ही था. पहले वोटर की आईडी चेक करता था, फिर मोबाइल प्रिंटर से एक स्लिप निकाल कर देने के साथ 500 रुपये भी देता.
बता दें कि चुनाव आयोग ने इसी महीने एलान किया था कि उसने कर्नाटक में 1,500 फ्लाइंग स्क्वॉड्स के साथ 2,000 राज्य निगरानी टीमों को तैनात किया है जिससे कि 12 मई को मतदान के दौरान चुनावी अनियमितताओं या आचार संहिता के उल्लंघन को रोका जा सके.

  •  
    13
    Shares
  • 13
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •