... ...
... ...

गांव में कार्य चल रहा है और ठेकेदार को कोई अता-पता ही नहीं

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विकास कार्यों में बरती जा रही लापरवाही से ग्रामीणों में आक्रोश
रुद्रप्रयाग । ग्राम पंचायत मवाणगांव में चल रहे विकास कार्यों में धांधली बरती जा रही है। आलम यह है कि ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधि, ठेकेदार और विभागीय अधिकारियों पर मिलीभगत का आरोप लगाया है। साथ ही भाई-भतीजावाद की राजनीति करने की भी बात कही है। ग्रामीणों की माने तो बरसात के समय सभी कार्य तबाह हो जायेंगे, जिससे जनता को मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा।
दरअसल, विकासखण्ड जखोली की ग्राम पंचायत मवाणगांव में मनरेगा के तहत रास्ते का कार्य चल रहा है, जबकि सिंचाई विभाग गांव में नहर बनाने का कार्य कर रही है।

इसके अलावा अन्य योजनाओं में भी गांव में कार्य किया जा रहा है, मगर ग्रामीणों का आरोप है कि जो भी कार्य गांव में किये जा रहे हैं। उन सभी कामों में गुणवत्ता का कोई भी ध्यान नहीं रखा जा रहा है। जनप्रतिनिधि, ठेकेदार और विभागीय अधिकारी आपस में मिले हुए हैं और कार्यों में रेत, बजरी की जगह मिट्टी और सीमेंट भी क्लीलिटी का नहीं लगाया जा रहा है। ऐसे में एक ही बरसात में विकास कार्यों पर पानी फिर जायेगा।

कहा कि दो वर्ष पूर्व आई आपदा में ग्राम की पुलिया ही बह गई, जिसके बाद पुलिया निर्माण के लिए लाखों की धनराशि स्वीकृत हुई। मगर आज तक इस धनराशि का भी कोई अता-पता नहीं है। जनप्रतिनिधि विकास कार्यों में लापरवाह बने हुए हैं। आपदा के दौरान ग्रामीणों की कईं हेक्टेयर भूमि भी तबाह हुई और फिर से अब ग्रामीणों को बरसात का डर सता रहा है। पूर्व प्रधान दर्मियान सिंह, पूर्व सैनिक कुंवर सिंह ने बताया कि सिंचाई विभाग की ओर से गदेरे के ऊपर बनाई जा रही सिंचाई नहर हल्की सी बारिश होने पर ढह सकती है।

इस पर बनाई गई सुरक्षा दीवार में भी गुणवत्ता का कोई ध्यान नहीं रखा गया है। ऐसे में यह दीवार कभी भी ढह सकती है। इसके अलावा गांव को जोडऩे वाले पैदल मार्ग पर घटिया कार्य किये जाने से उबड़-खाबड़ हो गया है। गदेरे पर सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किये गये हैं, जिससे हर बरसात में ग्रामीणों की सिंचाई खेती बह रही है और ग्रामीणों को नुकसान झेलना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण कईं मर्तबा गदेरे पर सुरक्षा दीवार लगाने की मांग कर चुके हैं, मगर आज तक कोई भी कार्य नहीं हुआ है।

पूर्व ग्रामीण दर्मियान सिंह ने कहा कि सिंचाई विभाग का कार्य गांव में चल रहा है और ठेकेदार को कोई अता-पता ही नहीं है। ऐसे में ग्रामीण किससे शिकायत करें। राजीव गांधी आवास के ट्रीटमेंट में लाखों के धन का वारा-न्यारा किया गया, इसमें जनप्रतिनिधि और अधिकारियों की मिलीभगत रही है। उन्होंने कहा कि गांव के जनप्रतिनिधि कभी भी विकास कार्य कराने से पहले ग्रामीण जनता के साथ बैठक नहीं करते हैं और सीधे कार्य शुरू हो जाता है, जिसके बाद पैंसा का वारा-न्यारा किया जाता है।

भाई-भतीजावाद की राजनीति की जा रही है, जिसके बीच ग्रामीण जनता पीस रही है। गांव में हो रहे विकास कार्यों से कोई भी खुश नहीं है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से विकास कार्यों में की जा रही धांधली की जांच की मांग की है। ग्राम पंचायत मवाणगांव में किये जा रहे विकास कार्यों में गुणवत्ता न होने की शिकायत मिली है। ऐसे में गांव का भ्रमण किया जायेगा और दोषी पाये जाने पर ठेकेदार और अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

Loading...