udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news वन विभाग कर्मचारियों ने हटाया मक्कू बैण्ड से अतिक्रमण

वन विभाग कर्मचारियों ने हटाया मक्कू बैण्ड से अतिक्रमण

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

तीन दुकानों को किया ध्वस्त, स्थानीय व्यापारियों में आक्रोश
पूर्व में जानकारी दिये बिना ही हटा दी दुकानें
रुद्रप्रयाग। तुंगनाथ यात्रा के अहम पड़ाव मक्कू बैण्ड पर तीन व्यापारिक प्रतिष्ठानों को वन विभाग अगस्त्यमुनि रेंज ने ध्वस्त कर दिया। दुकानों को ध्वस्त किये जाने के बाद स्थानीय लोगों ने विरोध जताना शुरू किया, जिसके बाद अन्य दुकानों को नहीं हटाया जा सका और वन विभाग की टीम वापस लौट आई।

मंगलवार को अगस्त्यमुनि रंेज के रंेज अधिकारी राजेन्द्र सिंह रावत के नेतृत्व में ग्यारह सदस्यीय वन विभाग की टीम तंुगनाथ यात्रा के अहम पडाव मक्कू बैंड पहुंची, जहां पर टीम ने रघुबीर राणा, आनंद सिंह नेगी व महाबीर पंवार की दुकानांे को ध्वस्त करते हुए अतिक्रमण को हटा दिया। दुकानों को तोड़ने की भनक लगते ही तुंगनाथ घाटी के बेरोजगार युवा मक्कू बैंड पहुंचे और वन विभाग की टीम पर आक्रोश जताया।

स्थानीय युवाओं ने जब वन विभाग के अधिकारियों से जानकारी मांगी तो विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उच्चाधिकारियों के निर्देश पर तीनों दुकानों को ध्वस्त किया गया है। बेरोजगार युवओं ने वन विभाग के अधिकारियों से विभाग के उच्चाधिकारियों का लिखित आदेश मांगा गया तो वन विभाग के कर्मचारियों के पास दुकान तोड़ने का लिाखित आदेश न होने से बेरोजगार युवाओं और वन विभाग के कर्मचारियों के बीच नोक झोंक शुरू हो गयी।

स्थानीय व्यापारी रघुबीर सिंह राणा ने कहा कि वन विभाग के अधिकारियों ने उन्हें जान से मारने की धमकी देकर दुकान को ध्वस्त किया। कहा कि वे कई दशकांे से इस स्थान पर दुकान का संचालन करते आ रहे हैं, मगर वन विभाग की टीम द्वारा बिना पूर्व सूचना के दुकान को तोड़ा गया। स्थानीय बेरोजगार युवाओं ने कहा कि शासन-प्रशासन स्थानीय बेरोजगारों की रोजी-रोटी से खिलवाड़ कर रहा है।

यदि प्रशासन व वन विभाग को दुकाने हटाने थी तो तीन दिन पूर्व लिखित आदेश जारी किया जाना चाहिए था। इस मौके पर प्रधान सरस्वती देवी, क्षेत्र पंचायत सदस्य नंद सिंह रावत, तंुगनाथ घाटी पर्यटन रोजगार विकास समिति अध्यक्ष सतीश मैठाणी, पूर्व प्रधान प्रदीप बजवाल, भगत सिंह बजवाल, श्रीचन्द्र रावत, आलोख बजवाल, सतेन्द्र बजवाल, प्रतिपाल बजवाल, महाबीर बजवाल, सुनील नेगी, विपिन नेगी, कुंवर सिह राणा, मनोज नेगी, देवेन्द्र बजवाल, आशीष मैठाणी, मोहन प्रसाद मैठाणी, मदन सिंह चौहान, हीरा सिह रावत, सुरेन्द्र सिह नेगी, शिव प्रसाद मैठाणी, विशन सिह नेगी, कुवर सिह रावत, जयबीर सिह नेगी सहित तुंगनाथ घाटी के दर्जनों बेरोजगार युवा मौजूद थे।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •