... ...
... ...

तृतीय केदार: 12 कुंतल फूलों से सजाया गया है बाबा का मंदिर

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रुद्रप्रयाग। पंचकेदारों में तृतीय केदार के नाम से विख्यात व चन्द्रशिला के आंचल में बसे भगवान तंुगनाथ के कपाट आज बुधवार को ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिये जायंेगे। कपाट खोलने की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। भगवान तंुगनाथ के मंदिर को अनेक प्रकार के पुष्पों से सजाया गया है। मंगलवार देर शाम भगवान तंुगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली अंतिम रात्रि प्रवास के लिए चोपता पहुंची।

 

मंगलवार को मक्कू गांव के भूतनाथ मंदिर में वेदपाठियों व हकहकूकधारियों ने भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली एवं साथ चल रहे अनेक देवी देवताओं के निशानों की विधि-विधान से पूजा अर्चना कर आरती उतारी और भगवान तंुगनाथ की डोली अगले पड़ाव के लिए रवाना हुई। डोली के रवाना होते ही महिलाओं ने मांगल गीतों व श्रद्धालुओं ने जयकारों से डोली अगवाई की। डोली के पास गांव पहुंचने पर ग्रामीणों द्वारा तुंगनाथ भगवान की डोली व साथ चल रहे देवी देवताओं के निशानों को अनेक प्रकार की पूजा सामाग्री से अर्घ्य लगाकर विश्व कल्याण एवं क्षेत्र के खुशहाली की कामना की।

 

 

चल विग्रह उत्सव डोली के चिलियाखौड़, बनियाकुण्ड व चोपता यात्रा पडावों पर श्रद्धालुओं ने अनेक प्रकार के वस्त्र अर्पित कर मनौती मांगी। देर शाम को भगवान तंुगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली अंतिम रात्रि प्रवास के लिए चोपता पहुंची। आज प्रातः भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली चोपता से प्रस्थान कर विभिन्न सुरम्य मखमली बुग्यालों में नृत्य करते हुए तंुगनाथ धाम पहुंचेगी तथा डोली के धाम पहुंचने पर लगभग साढ़े दस बजे भगवान तंुगनाथ के कपाट ग्रीष्मकाल के छः माह के लिए खोल दिये जायेंगे। वहीं दूसरी ओर तंुगनाथ धाम में कपाट खोलेन की सभी तैयारियां पूरी कर दी गयी हैं।

 

 

देहरादून निवासी सुरेन्द्र असवाल, कीर्ति पंवार, अनूप रावत, अधिवक्ता जगदीप असवाल, श्री बद्रीनाथ केदारनाथ मन्दिर समिति सदस्य शिव सिह रावत, धीर ंिसह नेगी सहित कई श्रद्वालुओं के सयोग से लगभग 12 कुन्तल फूलों से भगवान तुंगनाथ के मन्दिर को सजाया गया है। सैकडों श्रद्धालु डोली की अगुवाही कर चोपता पहुंच गये हैं। इस मौके पर प्रबन्धक प्रकाश पुरोहित, जिला पंचायत सदस्य मीना पुण्डीर, विनोद मैठाणी, अजय मैठाणी, संजय मैठाणी, विजय भारत मैठाणी, आशीष मैठाणी, मुकेश मैठाणी, प्रियधर मैठाणी, माहेश्वर मैठाणी, भगवती प्रसाद मैठाणी, रविन्द्र मैठाणी, जय ंिसंह चौहान, मदन सिंह राणा, सतीश मैठाणी, जगदम्बा प्रसाद मैठाणी, उमेद सिंह नेगी, नरेन्द्र सिंह भण्डारी, शिव ंिसह रावत, अनुज रावत, जीतपाल सिंह भण्डारी, अग्रेज सिंह नेगी, महेन्द्र ंिसंह नेगी, त्रिलोक सिंह नेगी, राजेश रावत, सहित सैकडो श्रद्वालु मौजूद थे।

Loading...