udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अस्पतालों में इलाज करवाना हो सकता है महंगा!

अस्पतालों में इलाज करवाना हो सकता है महंगा!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली । जी.एस.टी. लागू होने के बाद निजी अस्पतालों में इलाज कराना और रेल से माल ढुलाई महंगा हो सकता है। जानकारी के मुताबिक जी.एस.टी. सफलतापूर्वक लागू होने के बाद 50 से ज्यादा नई सेवाओं को टैक्स के दायरे में लाने पर सरकार विचार कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक 55 सेवाओं की पहचान की गई है जिन पर टैक्स की गुंजाइश है। अभी ये 55 सेवाएं सर्विस टैक्स के दायरे से बाहर।
सूत्रों के मुताबिक निजी अस्पतालों में इलाज कराने पर जी.एस.टी. लग सकता है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक जी.एस.टी. के बाद डॉक्टर की फीस, लैब में जांच कराने, फिजियोथिरेपिस्ट, पैरामेडिकल स्टाफ पर भी टैक्स लग सकता है। यहां तक की एंबुलेंस सेवा लेने पर भी सर्विस टैक्स लगेगा। हालांकि सरकारी अस्पताल जी.एस.टी. के दायरे से बाहर रहेंगे।

मैडीकल के अलावा और कई सेवाएं जी.एस.टी. के बाद महंगी हो सकती हैं। सूत्रों के मुताबिक सेबी और आईआरडीए की ओर दी जाने वाली सेवाएं भी जी.एस.टी. के दायरे में आ सकती है। रेल के जरिए माल ढुलाई पर जी.एस.टी. लग सकता है, फलों, सब्जियों की पैकेजिंग पर जी.एस.टी. लग सकता है। सूत्रों के मुताबिक भारत से बाहर टूर ऑपरेटर की सेवाओं, कचरा प्रबंधन, शिक्षा से जुड़ी सेवाएं, स्कूल में मिड डे मील और डांस, संगीत जैसी ट्रेनिंग की सेवाओं पर भी जी.एस.टी. लगाने का प्रस्ताव है।
सूत्रों के मुताबिक 1 जुलाई यानी जी.एस.टी. लागू होने के तुरंत बाद इस पर अमल नहीं होगा। फिलहाल शुरू में सरकार कोई नए आइटम पर टैक्स नहीं लगाना चाहती है और ना ही टैक्स बढ़ाना चाहती है। सूत्रों के मुताबिक जी.एस.टी. लागू होने के बाद इस प्रस्ताव पर विचार किया जाएगा। प्रस्ताव पर अंतिम फैसला जी.एस.टी. काऊंसिल लेगी। इन नई सेवाओं पर सबसे कम दर पर जी.एस.टी. लगाने पर विचार किया जा सकता है। जी.एस.टी. का मूल मकसद धीरे-धीरे टैक्स छूट खत्मकरना है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •