udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news ...तो हिमाचल प्रदेश में बनेगी प्रेम कुमार धूमल की सरकार !

…तो हिमाचल प्रदेश में बनेगी प्रेम कुमार धूमल की सरकार !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भाजपा ने हिमाचल में प्रेम कुमार धूमल को बनाया सीएम उम्मीदवार

शिमला। भाजपा ने हिमाचल में प्रेम कुमार धूमल को सीएम उम्मीदवार बनाकर अपनी मंसा दर्शा दी है और अपनी जीत को लेकर भाजपा आश्वस्त है। यह कहा जाए कि हिमाचल में धूमल सरकार तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। वैसे भी अभी तक आंकडों से हिमाचल में भाजपा की सरकार बनने के संकेत मिल रहे हैं।

 

 

आपको बता दें कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश में प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधानसभा चुनाव 2017 लड़ेगी। उनके मुताबिक, 18 दिसंबर के बाद प्रेम कुमार धूमल ही हिमाचल के मुख्यमंत्री बनेंगे।इस मौके पर अमित शाह ने कहा कि मुझे विश्वास हैं कि धूमल के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी हिमाचल प्रदेश में प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाएगी। हिमाचल की जनता को भाजपा सरकार चाहिए, जो पीएम नरेंद्र मोदी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करे ना कि माफियाओं और भ्रष्टाचारियों से घिरी कांग्रेस सरकार। अमित शाह ने आज हिमाचल प्रदेश की इंदौरा विधानसभा क्षेत्र के सूरजपुर में चुनावी जनसभा ये बाते कहीं।

 

 

गौरतलब है कि इससे पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 के लिए वीरभद्र सिंह को अपनी पार्टी का सीएम कैंडिडेट घोषित किया था।भाजपा के वरिष्ठ नेता धूमल इस बार अपनी पारंपरिक सीट हमीरपुर के बजाए सुजानपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। हमीरपुर लोकसभा क्षेत्र की सुजानपुर विधानसभा सीट 2008 में हुए परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई। 2012 विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र के अंदर 65,006 मतदाता थे।

 

 

इस सीट पर प्रदेश की दो बड़ी पार्टियां कब्जा जमाने में नाकाम रही। इस सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार राजिंदर सिंह ने 14,166 मतों से जीत हासिल हासिल की थी, लेकिन इस बार भाजपा के दिग्गज नेता व दो बार प्रदेश के सीएम रह चुके धूमल ने सुजानपुर विधानसभा से नामांकन दाखिल कर कांग्रेस व मौजूदा विधायक की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।73 साल के प्रेम कुमार धूमल हिमाचल की हमीरपुर विधानसभा सीट से नुमाइंदगी करते रहे हैं। 1984 में पहली बार धूमल ने लोकसभा चुनाव में हिस्सा लिया, हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा। 1989 के लोकसभा चुनाव में वह हमीरपुर सीट से विजयी हुए।

 

 

1991 में फिर धूमल ने हमीरपुर लोकसभा सीट से जीत हासिल की। इसके बाद भाजपा ने उन्हें हिमाचल राज्य इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया। 1996 के लोकसभा चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। भाजपा-हिमाचल विकास कांग्रेस की गठबंधन सरकार में पहली बार उन्होंने सीएम की कुर्सी संभाली। मार्च 1998 से मार्च 2003 तक वह प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। इसके बाद दिसंबर 2007 से दिसंबर 2012 तक वह दोबारा मुख्यमंत्री रहे।इससे पहले भाजपा ने उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के दौरान सीएम उम्मीदवार नहीं घोषित किया था। लेकिन हिमाचल विधानसभा चुनाव में भाजपा ने रणनीति बदलते हुए पहले ही सीएम उम्मीदवार का एलान कर दिया है।

 

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस ने सरदार पटेल के योगदान को भुला दिया है, मोदी सरकार पटेल के मार्गदर्शन में अपने मार्ग पर प्रशस्त कर रही है। राहुल गांधी अपनी तीन पीढ़ी का हिसाब दें।उनके मुताबिक, हिमाचल प्रदेश अब वीर भूमि नहीं माफिया भूमि बन गई है। प्रदेश की खराब हालत के लिए वीरभद्र जिम्मेदार है। यह प्रदेश पीएम नरेंद्र मोदी के दिल में बसा है।इससे पहले आज सुबह शिमला में अमित शाह ने एकता के लिए रन फॉर यूनिटी को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।इस मौके पर थावरचंद गहलोत ने एकता की शपथ दिलाई। इस अवसर पर अनुराग ठाकुर ने कहा कि अनुभवी नेता ही मुख्यमंत्री होगा।

Loading...

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •