... ...
... ...

देशों के बीच रिश्ता, मोहब्बतें और यादों को साझा किया

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देहरादून । आगाज-ए-दोस्ती संस्था ने रविवार को पांच वां इंडो पाक पीस कैलेंडर का विमोचन करने के साथ ही मौजूद विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं को केतना मेहता निर्देशित ‘टोबा टेक सिंह फिल्म का विशेष प्रदर्शन किया। इस दौरान आमंत्रित बुद्धिजीवियों ने दोनों के देशों के बीच रिश्ता, मोहब्बतें और यादों को भी साझा किया।

आगाज-ए-दोस्ती विभिन्न माध्यमो के जरिये भारत और पाकिस्तान के स्कूल क्लासरूम को आपस में कनेक्ट कर बच्चों को ये बताने का प्रयास करती है कि हम एक जैसे ही है। बस राजनीतिक तल्खियों के चलते दूर हैं। रविवार को विमोचन कार्यक्रम के बाद ‘शांतिपूर्व सह अस्तित्व की सांझा उम्मीद विषय पर गोष्ठी भी आयोजित हुई।

गोष्ठी में वरिष्ठ वैज्ञानिक और एक्टिविट प्रो. धीरेंद्र शर्मा ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों ही मुल्कों क8ो अपना ज्यादा से ज्यादा ध्यान लोगों के विकास पर देना चाहिये। बजाये इसके की वो अरबों रुपयों के अस्त्रों पर खर्च करें। सामाजिक कार्यकर्ता जीके स्वामी ने कहा कि शिक्षा व्यक्ति को समाज में रहने और उसके निर्माण में सहायक होती है। इस तरह की शैक्षिक गतिविधियां जो लोगों को शांति और मानवता आधारित समाज के निर्माण में योगदान करवाती है। ऐसी गतिविधियों की समाज को जरूरत है।

एंथ्रोपोलॉजिस्ट व सांस्कृति कार्यकर्ता लोकेश ओहरी ने कहा कि भारत और पाक भले ही दो मुल्क है, लेकिन इतिहास और विरासत अलग अलग नहीं। गोष्ठी के बाद विशेष फिल्म ‘टोबाटेक सिंह की स्क्रीनिंग भी की गई। मशहूर लेखक मंटो की कहानी पर आधारिक सत्तर मिनट की इस फिल्म के निर्देशक केतन मेहता है और मुख्य अभिनय पंकज कपूर का है। इस अवसर पर एसपी गोयल, संस्था के समन्वयक प्रशांत नौटियाल, रवि नितेश, देविका मित्तल आदि मौजूद रहे।

Loading...