udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news नटराजन चंद्रशेखरन: किसान परिवार से हैं टाटा चेयरमैन

नटराजन चंद्रशेखरन: किसान परिवार से हैं टाटा चेयरमैन

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी इम्प्लॉयर टीसीएस के सीईओ नटराजन चंद्रशेखरन टाटा सन्स के नए चेयरमैन बनेंगे। चंद्रशेखरन को एक ऐसे आदमी के तौर पर जाना जाता है जिन्होंने 30 हज़ार करोड़ कैपिटल वाली टीसीएस को 1 लाख करोड़ की कंपनी बना दिया। चंद्रशेखरन का टाटा के साथ सफर 30 साल पहले शुरू हुआ था और वो एक इम्प्लॉई बनकर टीसीएस से 1987 में जुड़े थे। अब वह टाटा संस के 149 साल बाद पहले गैर-पारसी चेयरमैन बने हैं। बता दें कि पिछले चेयरमैन साइरस मिस्त्री को बीते साल अक्टूबर में हटाया गया था।
कौन हैं चंद्रशेखरन
चंद्रशेखरन तमिलनाडु के मोहनुर से हैं और एक बेहद ही सामान्य किसान परिवार में साल 1963 में पैदा हुए थे। चंद्रशेखरन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नॉलजी त्रिची से कंप्यूटर एप्लीकेशन में मास्टर डिग्री होल्डर हैं।
क्या बोले चंद्रशेखरन
चेयरमैन चुने जाने के बाद चंद्रशेखरन ने कहा, ‘बोर्ड और मिस्टर रतन टाटा ने मुझ पर जो भरोसा जताया, उसके लिए मैं शुक्रगुजार हूं। टाटा ग्रुप में इतने बड़े पद पर पहुंचना सम्मान की बात है। टाटा सन्स एक रिच हेरिटेज वाला ग्रुप है। आम आदमी कहता है कि टाटा तो हमारी कंपनी है। गर्व है कि 30 साल से इसका हिस्सा हूं। हम शेयरहोल्डर्स के हितों का खास ध्यान रखेंगे।Ó चंद्रशेखरन ने कहा, ‘टाटा ग्रुप लोगों के दिल में है। इसलिए ये बहुत बड़ी जिम्मेदारी है।

इसे निभाने के लिए लीडरशिप क्वॉलिटीज की जरूरत होगी। इसके लिए बहुत सारे लोगों की मदद की भी जरूरत होगी। मुझे इस जिम्मेदारी को समझने में कुछ वक्त लगेगा। इसके लिए मुझे सबकी मदद की जरूरत होगी। ये एक कलेक्टिव लीडरिशप है। जिन उसूलों पर टाटा ग्रुप खड़ा है, मेरी कोशिश उन्हें बनाए रखने और ग्रुप को आगे ले जाने की होगी।Ó
ऐसे साबित किया खुद को
गौरतलब है कि चंद्रशेखरन ने 2009 में सीईओ और एमडी के तौर पर टीसीएस की कमान संभाली थी। उन्होंने अपनी लीडरशिप में 30,000 करोड़ रुपए इनकम वाली टीसीएस को 1 लाख रुपए इनकम वाली कंपनी बना दिया। तब से लेकर अब तक उन्होंने न सिर्फ कंपनी को सफलता की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया, बल्कि निजी स्तर पर भी उन्होंने बिजनेस वलर््ड में अपनी एक अलग पहचान बनाई। उनकी लीडरशिप में कंपनी का प्रॉफिट भी तीन गुना बढ़ा। उनकी लीडरशिप में टीसीएस का मुनाफा 7,093 करोड़ रुपए से बढ़ कर 24,375 करोड़ रुपए हो गया। टाटा ग्रुप के इनकम में टीसीएस का योगदान 70 फीसदी है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •