रोंगटे खड़े कर देगी कहानी , 13 साल की बच्ची को रखा था पत्नी बनाकर

नई दिल्ली। पश्चिमी दिल्ली के रणहौला इलाके से पुलिस ने एक 13 साल की बच्ची को बचाया है, जो 42 साल के शख्स के साथ पत्नी के रूप में रह रही थी। गौरतलब है कि आरोपी ने बिहार के दरभंगा में बच्ची से शादी की थी और तब से वह बच्ची दिल्ली में उसके साथ रह रही थी।

पेशे से रिक्शाचालक आरोपी की पहले भी दो शादियां हो चुकी हैं। डीसीपी एम एन तिवारी ने कहा कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके खिलाफ पोक्सो और बाल विवाह अधिनियम ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। वहीं बच्ची को पुनर्सुधार के लिए एक एनजीओ भेज दिया गया है।

पुलिस अधिकारी के अनुसार, बच्ची के पिता की मौत हो चुकी है, जबकि मां मानसिक तौर पर बीमार है। पति के चले जाने के बाद बीमार मां और बच्ची को घरवालों ने निकाल दिया, जिसके बाद मां के पास अपनी बच्ची के लालन-पालन के लिए कोई जरिया नहीं था।

मां-बेटी बिहार के दरभंगा में रहते थे और उन्हीं दिनों आरोपी शादी के प्रस्ताव के साथ बच्ची की मां के पास गया। उसकी पहली पत्नी मर गई थी, जबकि दूसरी पत्नी ने उसे छोड़ दिया था। मां अपनी नन्ही सी जान की उस अधेड़ से शादी कराने के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थी,

 

लेकिन पड़ोसियों ने उसे यह यकीन दिलाया कि आरोपी दिल्ली में खूब अच्छा पैसा कमाता है और वह उसकी बेटी को खुश रखेगा। इसके बाद एक छोटी-सी सेरिमनी के बाद उस बच्ची को 42 वर्षीय आरोपी के साथ दिल्ली भेज दिया गया।

पूछताछ में बच्ची ने पुलिस को बताया कि आरोपी से उसकी शादी बीते साल (2017) में 27 फरवरी को हुई थी। बच्ची के साथ पत्नी वाला रिश्ता छुपाने के लिए आरोपी दिल्ली में अपने पड़ोसियों के सामने उसे अपना रिश्तेदार बताता था। इसके बाद उसने पश्चिमी दिल्ली के हरि नगर में अपने अन्य रिश्तेदारों के साथ रहना शुरू कर दिया।

बताया जा रहा है कि एक हफ्ते पहले ही आरोपी ने अपने बाकी परिवार से अलग रहना शुरू किया और बच्ची को लेकर रणहौला के शिव विहार आ गया। यहां वह किराए पर कमरा लेकर बच्ची के साथ रहने लगा। आरोपी बच्ची को कहीं भी अकेले नहीं जाने देता था और न ही उसे अन्य बच्चों के साथ खेलने देता था। वह उस बच्ची से घर का सारा काम कराता। धीरे-धीरे उसने बच्ची से शादीशुदा औरत की तरह रहने की फरमाइश शुरू कर दी। वह उसे चूडिय़ां पहनने और सिंदूर लगाने के लिए कहता।

 

कई रातों को बच्ची की चीखने की आवाज आती थी। एक दिन बच्ची की चीख की आवाज सुन पड़ोसी ने हेल्पलाइन नंबर पर फोन कर दिया। फोन पर मिली जानकारी के आधार पर एसएचओ रणहौला राजेश कुमार सिंह पूरी टीम के साथ अगले दिन आरोपी के घर पहुंचे। उस वक्त आरोपी घर पर नहीं था, सिर्फ बच्ची वहां मौजूद थी। थोड़ी मशक्कत करने के बाद पुलिस बच्ची का विश्वास जीतने में कामयाब रही और उसे कस्टडी में ले लिया।

 

इसके बाद बच्ची को अस्पताल ले जाया गया, जहां सेक्शुअल असॉल्ट की पुष्टि हुई। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को दबोच लिया और उसने भी अपना जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस के शीर्ष अधिकारियों ने कहा कि बच्ची की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। पुलिस की एक टीम दरभंगा भी भेजी जाएगी ताकि यह पता लगाया जा सके कि इस मामले में और लोगों की संलिप्तता तो नहीं है।

PropellerAds