रोजगार : दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी टूरिजम इकॉनमी होगा भारत!

नई दिल्ली । भारत 2028 में दुनिया में तीसरी सबसे बड़ी टूरिजम इकॉनमी हो जाएगा। देश की कुल जीडीपी और टूरिजम से होने वाली आय के आंकड़ों के विश्लेषण के आधार पर वर्ल्ड ट्रैवल ऐंड टूरिजम काउंसिल ने अपनी रिपोर्ट में यह बात कही है।

वैश्विक स्तर पर जारी की गई इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि आने वाले 10 सालों में भारत में इस सेक्टर के जरिए रोजगार के 1 करोड़ नए अवसर पैदा होंगे। 2018 में टूरिजम में रोजगार के अवसरों का आंकड़ा 4.2 करोड़ है, जबकि 2028 में यह बढक़र 5.2 करोड़ हो जाएगा।

फिलहाल भारत को दुनिया की 7वीं सबसे बड़ी टूरिजम इकॉनमी करार देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि टूरिजम इंफ्रास्ट्रक्टर में सुधार करने पर संभावनाएं बढ़ सकती हैं। वर्ल्ड ट्रैवल ऐंड टूरिजम काउंसिल की प्रेजिडेंट और चीफ एग्जिक्यूटिव ग्लोरिया गुएवारा ने कहा, भारत में ट्रैवल और टूरिजम सेक्टर के लिए जिस पर सबसे ज्यादा फोकस किए जाने की जरूरत है, वह है इन्फ्रास्ट्रक्चर।

 

वैश्विक परिप्रेक्ष्य में टूरिजम एक प्रतिस्पर्धी कारोबार है। भारत के पूर्वी और पश्चिमी पड़ोसी देशों की बात करें तो उन्होंने एयरपोर्ट्स, बंदरगाहों और हाईस्पीड रेल और रोड नेटवर्क के जरिए वर्ल्ड क्लास इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया है।इसके साथ ही वर्ल्ड ट्रैवल ऐंड टूरिजम काउंसिल ने केंद्र सरकार की रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम का भी स्वागत किया है।

 

इस स्कीम के तहत देश में 350 हवाई अड्डे और हवाई पट्टों को विकसित करने पर काम चल रहा है। मुंबई में नए क्रूज पोर्ट को तैयार करने के सरकार के फैसले को भी गुएवारा ने देश को ग्लोबल क्रूज डेस्टिनेशन बनाने की दिशा में अहम कदम करार दिया। गुएवारा ने कहा, केंद्र सरकार ने अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए वास्तव में कई बेहतरीन कदम उठाए हैं।

 

163 देशों के लिए ई-वीजा की सुविधा शुरू करना भी इन कदमों में से एक है। इसके अलावा इन्क्रेडिबल इंडिया 2.0 कैंपेन को भी अच्छी मार्केटिंग के साथ लॉन्च करना भी सही कदम है।

PropellerAds