... ...
... ...

रिलायंस डिजिटल : 2 अरब डॉलर क्लब में शामिल !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोलकाता । ऑनलाइन बिक्री करने वाले स्मार्टफोन ब्रांड्स शाओमी और मोटोरोला के ऑफलाइन स्टोर्स में प्रवेश करने से मुकेश अंबानी के कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स और स्मार्टफोन रिटेलिंग बिजनस को सेल्स बढ़ाने में मदद मिली है। इस तरह रिलायंस डिजिटल का बिजनस अब 2 अरब डॉलर क्लब में शामिल हो गया है।

 

इंडस्ट्री से जुड़े दो सीनियर एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि मार्च 2018 में समाप्त हुए वित्त वर्ष में रिलायंस डिजिटल का बिजनस 31 पर्सेंट बढक़र 15,100 करोड़ रुपये पर पहुंच गया, जो 2016-17 में 11,480 करोड़ रुपये का था। इसमें रिलायंस जियो कनेक्शंस और रिचार्ज की वह सेल्स शामिल नहीं है, जो रिलायंस डिजिटल और इसके स्मॉल फॉर्मट वाले जियो स्टोर्स की ओर से की जाती है।

 

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने चौथी तिमाही के नतीजों पर इनवेस्टर्स को दी प्रेजेंटेशन में कहा था कि शाओमी और मोटोरोला जैसे ऑनलाइन ब्रांड्स को लाने और कुछ अन्य कदमों से रिलायंस डिजिटल की सेल्स बढ़ाने में मदद मिली है। इंडस्ट्री को ट्रैक करने वाले एनालिस्ट्स का कहना है कि प्रतिस्पर्धी कीमत और टॉप दो ई-कॉमर्स कंपनियों- फ्लिपकार्ट और एमेजॉन के समान ऑफर्स देने से भी रिलायंस डिजिटल की सेल्स में वृद्धि हुई है।

 

रिलायंस डिजिटल के पास 220 से अधिक लॉर्ज फॉर्मेट रिलायंस डिजिटल स्टोर और 1,800 से अधिक स्मॉल फॉर्मेट जियो स्टोर हैं। जियो स्टोर स्मार्टफोन बेचने के साथ ही टेलीविजन और अप्लायंसेज की कैटालॉग सेल्स भी करते हैं।

 

रिलायंस डिजिटल की सेल्स अब अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी टाटा ग्रुप की क्रोमा चेन से चार गुना से ज्यादा हो गई है। क्रोमा ने फाइनेंशियल ईयर 2018 के लिए अभी तक अपने फाइनेंशियल फरफॉर्मेंस की घोषणा नहीं की है। कंपनी की 2016-17 में बिक्री 3,268 करोड़ रुपये की थी।

 

रिलायंस डिजिटल ने सेल्स के लिहाज से क्रोमा को 2014-15 में पीछे छोड़ दिया था। इंडस्ट्री के एक एग्जिक्यूटिव ने बताया कि पिछले फेस्टिव सीजन के दौरान स्मार्टफोन और टेलीविजन जैसी कैटेगरीज में भारी ऑनलाइन डिस्काउंट की वापसी होने और जीएसटी लागू होने के बावजूद रिलायंस डिजिटल सेल्स बढ़ाने में कामयाब रही है।

 

उन्होंने बताया, रिलायंस डिजिटल ने स्मार्टफोन के साथ टेलीविजन और अप्लायंसेज में भी बिक्री बढ़ाई है। इसमें उसका प्राइवेट लेबल रीकनेक्ट भी शामिल है। रेवेन्यू में सर्विस बिजनेस को भी जोड़ा गया है। रिलायंस डिजिटल के पास अभी 70 सर्विस सेंटर हैं।
रिलायंस रिटेल के 2016-17 में रेवेन्यू में 34 पर्सेंट के साथ रिलायंस डिजिटल का सबसे अधिक योगदान था। इसने ग्रॉसरी बिजनेस को पीछे छोड़ दिया था।

 

पिछले फाइनेंशियल ईयर में रिलायंस का रिटेल बिजनेस 105 पर्सेंट बढक़र 69,198 करोड़ रुपये की बिक्री को पार कर दया। इसमें पेट्रोलियम रिटेलिंग के साथ ही रिलायंस जियो कनेक्शन रिचार्ज और सेल्स सहित कनेक्टिविटी बिजनेस शामिल है।

Loading...