रिलायंस:  80 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार !

नई दिल्ली । रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने घोषणा की कि उनकी कंपनी असम में अलग- अलग सेक्टर में 2500 करोड़ रुपये का इनवेस्टमेंट करेगी. यह निवेश खुदरा कारोबार, पेट्रोलियम, दूरसंचार, पर्यटन और खेलों के क्षेत्र में किया जाएगा. इससे आने वाले तीन सालों में करीब 80 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा. मुकेश अंबानी शनिवार को गुवाहाटी में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2018 के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि मुझे असम के लिए इस निवेश की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है.

40 रिटेल आउटलेट होंगे
मुकेश अंबानी ने कहा कि राज्य में रिटेल डिवीजन के अभी दो आउटलेट हैं, जिन्हें आने वाले समय में बढ़ाकर 40 किया जाएगा. वहीं मौजूदा समय में संचालित हो रहे 27 पेट्रोल डिपो को बढ़ाकर 165 तक किया जाएगा. उन्होंने बताया कि रिलायंस इंडस्ट्रीज असम के 145 तहसील मुख्यालयों पर भी नए ऑफिस खोलेगी. आपको बता दें कि असम में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन पहली बार किया जा रहा है.

पीएम ने किया समिट का इनॉगरेशन
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समिट का इनॉगरेशन किया. गुवाहाटी में चलने वाले दो दिवसीय समिट के जरिए सरकार निवेशकों को राज्य की मैन्युफैक्चरिंग कैपेसिटी और जियो-स्ट्रैटेजिक फायदों की जानकारी देगी. कार्यक्रम के पहले दिन भूटान के पीएम शेरिंग तोबगे मौजूद रहे. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आसियान देशों का जिक्र करते हुए कहा, हम सभी कृषि आधारित देश हैं, इसलिए केंद्र सरकार किसानों की आय को दोगुना करने के लिए काम कर रही है.

रतन टाटा भी होंगे समिट में शामिल
शुक्रवार को कार्यक्रम की तैयारी करते हुए असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा, ‘4,500 प्रतिनिधियों ने इसमें भाग लेने के लिए पंजीकरण कराया है. इसमें 16 देशों के प्रतिनिधि शामिल हो रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोब्गे पहले ही आ चुके हैं. उन्होंने बताया था कि देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी मुकेश अंबानी और रतन टाटा जैसे उद्योगपति भी इसमें हिस्सा होंगे.

दो दिन तक चलेगी समिट
गौरतलब है कि 3 और 4 फरवरी को होने वाले इस सम्मेलन में असम में उपलब्ध निर्यात उन्मुख विनिर्माण अवसरों को प्रदर्शित किया जाएगा. सोनेवाल ने बताया कि आसियान और दक्षिण एशिया की उभरती अर्थव्यवस्थाओं को दी जाने वाली विशेष सेवाओं के बारे में भी बताया जाएगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पूर्वोत्तर के विकास पर प्रमुख तौर पर ध्यान दे रहे हैं और इस क्षेत्र के विकास के लिए उन्होंने कई कदम उठाए हैं.

PropellerAds