5 लाख करोड़ देगा रिपब्लिक डे परेड का मेहमान

नई दिल्ली। इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर आबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जाएद मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहेंगे। शेख जाएद ने भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए 75 बिलियन डॉलर यानी करीब 5 लाख 10 हजार करोड़ रुपये निवेश करने का फैसला किया है। भारत में इस सेक्टर में बड़े पैमाने पर निवेश किए जाने की जरूरत है। अगले 10 सालों में भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के विकास के लिए 1.5 ट्रिलियन डॉलर का निवेश किए जाने की जरूरत है। केंद्र सरकार का लक्ष्य 2019 तक देश के 7 लाख गांवों को सड़कों से जोडऩा है।
इसके अलावा रेलवे, रोड, बंदरगाह और एयरपोर्ट्स आदि का विकास भी तेजी से बढ़ती इकॉनमी की तुलना में कमजोर है। इस कमी को पूरा करने के लिए अकेले बैंकों की फंडिंग से ही काम नहीं चल सकता, इसलिए मोदी सरकार पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप समेत अन्य उपायों पर भी काम कर रही है। विदेशी निवेश भी इस सेक्टर में फंडिंग का महत्वपूर्ण स्रोत है। मार्च, 2016 में भारत और आबू धाबी की सरकार के बीच साइन किए गए एमओयू में 75 बिलियन अमेरिकी डॉलर इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में निवेश किए जाने का करार किया गया था। सरकार को इस इन्वेस्टमेंट से बनने वाले प्रॉजेक्ट्स को चालू करने के लिए मैकेनिज्म सेट करना है।
कच्चे तेल के दामों में कमी के दौर में संयुक्त अरब अमीरात अब अपनी इकॉनमी में विविधता लाने की कोशिशों में जुटा है ताकि तेल पर उसकी निर्भरता कम हो सके। संयुक्त अरब अमीरात उन देशों में से एक है, जिनके पास सबसे बड़ा वेल्थ फंड है। पिछले साल एक सरकारी समिट में आबू धाबी के क्राउन प्रिंस जाएद ने कहा था, अगले 50 सालों में जब हमारे पास तेल खत्म हो चुका होगा, तब हम दुनिया को क्या बेचेंगे। सवाल यह है कि क्या तब हमें दुखी होना पड़ेगा। यदि आज हम सही सेक्टर में निवेश करेंगे तो मैं आपको भरोसा दिला सकता हूं कि उस वक्त हम सेलिब्रेशन की स्थिति में होगे।

PropellerAds