राजकीय बालिका इंटर कालेज पाबौ से चटाई मुक्त अभियान की शुरूआत

पौड़ी:  प्रदेश के महामहिम राज्यपाल डा0 केके पॉल ने आज थलीसैंण तहसील में आयोजित कार्यक्रम में पुस्तकदान कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस मौके पर महामहिम राज्यपाल ने राजकीय महाविद्यालय थलीसैंण के प्रशासनिक एवं कला संकाय भवन का लोकार्पण तथा वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की। इसके अलावा राज्यपाल में विकास खंड पाबौ में खुडेश्वर विकास मेला तथा राजकीय बालिका इंटर कालेज पाबौ से चटाई मुक्त अभियान की शुरूआत की।
थलीसैंण के राजकीय महाविद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल ने पुस्तकदान कार्यक्रम के तहत कहा कि पुस्तक दान सबसे बड़ा दान है। जिसके अध्ययन से अच्छे चरित्र का निर्माण तथा अच्छे विचार प्राप्त होते हैं। जिनसे सफलता की नयी सीढ़ियां प्राप्त की जा सकती हैं। उन्होंने वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की इस पावन भूमि को नमन करते हुए कहा कि इस क्षेत्र में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। कहा कि अच्छी पुस्तकों से अध्ययन करने में रूची परक ज्ञान हमारा लक्ष्य होना चाहिये।
उन्होंने कहा कि किताबें महत्वपूर्ण अंग होती हैं। जिनसे अच्छी शिक्षा प्राप्त की जा सकती है। कहा कि आज शिक्षा के क्षेत्र में बालिकाओं के काफी आगे होने की बात कही। उन्होंने कार्यक्रम में बालिकाओं की ओर से प्रस्तुत सांस्कृतिक कार्यक्रमों को सराहा। कहा कि आज कॉमनवेल्थ खेलों में भी बालिकाओं का प्रदर्शन बेहतर हो रहा है। इससे  पूर्व उन्होंने महाविद्यालय के ब्रज इंटरनेशनल द्वारा निर्मित कला संकाय भवन का वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच लोकार्पण किया। कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. धन सिंह रावत ने कालेज प्रशासन का इस अल्प समय में किये गये तैयारियों के लिए बधाई दी।
उन्होंने कहा कि उफरैखाल महाविद्यालय के लिए विधायक निधि से विद्यालय के लिए पुस्तकें, फर्नीचर, कंप्यूटर व अन्य उपकरणों आदि के लिए धन राशि उपलब्ध करायी जायेगी। इसके अलावा उन्होंने थलीसैंण, मजरा महादेव तथा उफरैखाल महाविद्यालयों सुदृढ़ीकरण आदि के लिए सरकार द्वारा धनराशि उपलब्ध कराने की बात कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी महाविद्यालयों में आगामी 15 अगस्त तक शत प्रतिशत पुस्तकें,  फर्नीचर, स्मार्ट क्लासेज, प्रयोगशाला, सेमिनार, क्वालिटि एजुकेशन उपलब्ध करायी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा अभी तक सभी  महाविद्यालयों में प्रचार्यों की नियुक्ति की जा चुकी है।
जबकि महाविद्यालयों में 93 प्रतिशत फैकल्टी तथा 92 प्रतिशत प्रोफेसरों को नियुक्त किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही प्रदेश में 877 प्रोफेसरों के रिक्त पदों को भी भरने की कार्यवाही की जाएगी। इस मौके पर उच्च शिक्षा निदेशक डा. सविता मोहन तथा महा विद्यालय की प्राचार्य डा. लवलीरानी राजवंशी ने महामहिम राज्यपाल तथा उच्च शिक्षा मंत्री के प्रथम बार विद्यालय पहुंचने पर आभार जताया। इस मौके पर जिलाधिकारी सुशील कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जेआर जोशी, उप जिलाधिकारी मायादत्त जोशी, क्षेत्राधिकारी कोटद्वार जेआर जोशी, तहसीलदार सुनील राज समेत कई अन्य विभागों के अधिकारी व विद्यायल परिवार के समस्त छात्र छात्राएं, गुरूवृंद एवं आम जनता उपस्थित रही। कार्यक्रम का संचालन दीपचंद पांडे ने किया। 
इधर पाबौ ब्लाक मुख्यालय में आयोजित पौराणिक खुडेश्वर विकास मेले का दीप प्रज्वलित कर महामहिम राज्यपाल डा0 केके पॉल तथा उच्च शिक्षा मंत्री डा0 धन सिंह रावत ने संयुक्त रूप से उद्धाटन किया। इस मौके पर महामहिम ने ब्लाक के तीन विद्यालयों को चटाईमुक्त करते हुए इन विद्यालयों को फर्नीचर उपलब्ध कराये। उन्होंने सरकार की 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सभी विभागों को एकजुट होकर कार्य करने को कहा। उन्होंने लोगों से खेती जैसे व्यवसायों को अपनाने पर जोर दिया ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की आर्थिकी विकसित हो सके।
उन्होंने पहाड़ों में पानी के संरक्षण के लिए पोखर, तालाब, चाल-खाल आदि के साथ ही पानी देने वाले वृक्षों का भी पौधरोपण करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जीबी पंत विश्वविद्यालय पंतनगर को उन्नत फसलों पर शोध कर अच्छे नस्ल के बीजों को काश्तकारों को उपलब्ध कराने पर बल दिया। उन्होंने हिल एग्रिकल्चर के लिए जनपद के सभी विश्वविद्यालयों को पहाड़ी फसलों के लिए वैज्ञानिक विधियां विकसित करने की बात कही। इस मौके पर उच्च शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. धन सिंह रावत ने तीन दिवसीय पौराणिक खुडेश्वर मेले की विभिन्न व्यवस्थाओं के सफल आयोजन के लिए प्रतिवर्ष दो लाख रूपये की प्रोत्साहन धनराशि दिये जाने की बात कही। इसके अलावा उन्होंने सरकार से खुडेश्वर मंदिर प्रांगण के सौन्दर्यकरण, सम्पर्क मार्ग, हैलीपैड निर्माण तथा अन्य धार्मिक कार्यों के लिए 70 लाख रूपये का प्रस्ताव तैयार किये जाने की बात कही।
इस मौके पर महामहिम राज्यपाल ने ग्राम पीपली निवासी दीपा देवी को बकरी पालन, किरन देवी को मशरूम उत्पादन तथा ग्राम कुई निवासी अनीता देवी, कोटा निवासी आशा देवी तथा ग्राम नौठा निवासी सीमादेवी को दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में किये गये बेहतरीन कार्यों के लिए एक-एक लाख रूपये के डेमो चैक वितरित किये। इसके अलावा स्वच्छ भारत मिशन के तहत सैंजी निवासी कल्याण सिंह, सुदामा सिंह, उमा देवी को उत्कृष्ट कार्य करने के लिए 12-12 हजार रूपये के चैक वितरित किये। कार्यक्रम में चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के केंद्रीय  संयोजक विश्वंभर प्रसाद खंकरियाल ने केवीके भरसार के संबंध में एक ज्ञापन महामहिम को सौंपा।
इस मौके पर मंदिर समिति के अध्यक्ष वीरबल बिष्ट, उपाध्यक्ष सुरवीर सिंह चौहान, सचिव कविंद्र सिंह नेगी, सुरेंद्र सिंह गुसांई, देवेंद्र ंिसह, प्रेम सिंह, राजेंद्र प्रसाद टम्टा समेत जिला प्रशासन की ओर से अपर जिलाधिकारी रामजी शरण शर्मा, उप जिलाधिकारी सदर केएस नेगी तथा विभिन्न विभागों को जिला स्तरीय अधिकारी एवं आम जनता उपस्थित रही। कार्यक्रम का संचालन मातबर सिंह ने किया।
PropellerAds