udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news प्रेम प्रसंग में 10वीं के छात्र को 80 बार मारा चाकू , मौत

प्रेम प्रसंग में 10वीं के छात्र को 80 बार मारा चाकू , मौत

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पटना । मोतिहारी के नगर थाने के शांतिपुरी मोहल्ले में मंगलवार की देर रात अपराधियों ने दसवीं के छात्र की निर्मम तरीके से हत्या कर दी। अपराधियों ने छात्र पर हमला कर चाकू से 80 बार गोदकर मार डाला और हत्या के बाद फरार हो गए। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

 

बताया जाता है कि जिले के पकड़ीदयाल निवासी राजेश्वर कुमार त्रिपाठी का पुत्र विपुल कुमार त्रिपाठी अपनी मां के साथ शांतिपुरी मोहल्ले में किराए के मकान में पिछले डेढ़ साल से रहकर पढ़ाई करता था। वह उसी मुहल्ले में स्थित शांति निकेतन स्कूल में दसवीं का छात्र था। बीती रात विपुल अपने दोस्त के साथ मोतिहारी स्टेशन से घर लौट रहा था। तभी एसबीआई एटीएम के पास छह अपराधियों ने उसे घेर लिया और चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया।

 

बचाने के लिए दौड़े उसके दोस्त पर भी बदमाशों ने हमला कर दिया। घटना मोतिहारी के नगर थाना के शांतिपुरी मुहल्ला में मंगलवार की रात हुई। नगर इंस्पेक्टर आनंद कुमार ने बताया कि विपुल की हत्या प्रेम प्रसंग में हुई है। स्टूडेंट के मोबाइल से हुई बातचीत के आधार पर पुलिस छापेमारी कर रही है। अपराधियों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

 

मृतक स्टूडेंट पकड़ीदयाल वार्ड संख्या 5 के राजेश्वर त्रिपाठी उर्फ बबलू त्रिपाठी का पुत्र विपुल त्रिपाठी था। विपुल शांति निकेतन स्कूल में दसवीं का स्टूडेंट था। विपुल अपनी मां और दो छोटे भाईयों के साथ शांतिपुरी मुहल्ला में विजय सिंह के मकान में किराए पर रहता था। बताया जाता है कि विपुल स्टेशन से घर जा रहा था इस दौरान शांति निकेतन जुबली स्कूल के पास अपराधियों ने रोक लिया।

 

रोकने के बाद अपराधियों ने हमला कर दिया। जिससे उसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई। शोर सुनकर आसपास के लोग वहां आए तब तक अपराधी भाग गए थे। लोगों ने उसे निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पर नगर इंस्पेक्टर आनंद कुमार छतौनी इंस्पेक्टर विजय कुमार यादव नर्सिंग होम पहुंच गए। पुलिस के अनुसार हमला करने वाले अपराधियों की संख्या पांच थी।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •