प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 20 अक्टूबर को केदारनाथ में!

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केदारनाथ दौरे की तैयारियां शुरू,18 अक्टूबर सांय तक तैनात स्थल पर पहुंचेंगे अधिकारी-कर्मचारी,बिना अनुमति के कोई भी अधिकारी-कर्मचारी डयूटी से नहीं रहेगा नदारद,समय पर व्यवस्थाओं को पूर्ण करने के निर्देश

रुद्रप्रयाग। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 20 अक्टूबर को केदारनाथ दौरे को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। बिना अनुमति के कोई भी अधिकारी-कर्मचारी मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। जिस भी अधिकारी-कर्मचारी को जो जिम्मेदारी सौंपी जायेगी, वह 18 अक्टूबर सांय तक डयूटी स्थल पर पहुंचेगा। किसी भी अधिकारी को तैनाती स्थल तक जाने के लिये हेली सेवा के आदेश नहीं हैं। ऐसे में मौसम अनुकूल होने पर अधिकारी-कर्मचारी पैदल ही धाम के लिये रवाना होकर कार्यभार संभालेंगे।

 

20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केदारनाथ दौरे की तैयारियों को लेकर बैठक संपंन हुई। बैठक में अनुपस्थित अधिकारियों को स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये। यात्रा डयूटी में तैनात किये जाने वाले अधिकारी-कर्मचारियों की ओर से यदि किसी भी प्रकार की लापरवाही बरती जाती है तो उनके खिलाफ दण्डात्मक कार्रवाई की जायेगी। 18 अक्टूबर सांय तक सभी अधिकारी-कर्मचारियों को हर हाल में अपने डयूटी स्थल पर पहुंचना होगा।

 

बैठक में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि प्रत्येक विभाग अपना नोडल अधिकारी नियुक्त करे, ताकि व्यवस्थाओं से सम्बंधित कोई जानकारी तत्काल मिल सके। डीआईओ एनआईसी को निर्देशित किया गया कि मंदिर के समीप सेफहाउस के भीतर कम्प्यूटर, फोटोस्टेट मशीन, स्कैनर व कलर प्रिंटर की व्यवस्था करें। सभी विभाग प्रधानमंत्री के भ्रमण कार्यक्रम की व्यवस्थाओं को लेकर जो भी उनकी जरूरतें है, उन्हें सांय तक उपलब्ध कराएं।

 

उन्होंने लोनिवि रुद्रप्रयाग व ऊखीमठ को साउण्ड सिस्टम की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। मंदिर के पीछे बने हेलीपैड, जहां प्रधानमंत्री उतरेंगे, वहां सेफहास के लिये लोनिवि के अधिशासी अभियन्ता रुद्रप्रयाग व गुप्तकाशी को निम के साथ समन्वय कर व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। वहीं हेलीपैड से मंदिर तक पैदल मार्ग की बैरिकेटिंग 17 अक्टूबर तक पूर्ण करने व एटीवी वाहन की व्यवस्था निम के सहयोग से करवाने के निर्देश दिये।

 

उन्होंने कहा कि मंदिर समिति के कार्यकारी अधिकारी को मंदिर में कार्यक्रम स्थल पर तैनात, मंच निर्माण के साथ ही आयोजित कार्यक्रमों की पूरी गतिविधियों को संचालित करने की जिम्मेदारी होगी और गतिविधियों का पूरा ब्यौरा प्रशासन को उपलब्ध करायेंगे। दूर संचार निगम के अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के दौरान संचार व इंटरनेट की समस्या सामने ना आए इसका विशेष ध्यान रखें। केदारनाथ में विद्युत, पेयजल व अन्य व्यवस्थाओं के लिये संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया गया।

 

जिला पंचायत को वीआईपी पालकी तैयार करने को कहा। बैठक में फूड सेफटी, भेंट की जाने वाली वस्तुओं की सूची सहित ड्यूटी पर तैनात अधिकारियों-कर्मचारियों व मीडिया को पास निर्गत करने पर भी विस्तार से चर्चा की गई। भोजन व्यवस्था एवं परोसने के लिये गढ़वाल मण्डल विकास निगम को दायित्व दिया गया।

 

वहीं जिला पूर्ति अधिकारी को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के निर्देश दिये। चिकित्सा संबंधी व्यवस्थाओं के लिये मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया गया।जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी व प्रभारी अधिकारी को हैली प्लॉन बनाने को कहा, जिससे हैली से जाने वालो को जानकारी रहे कि उनके जाने का क्रम क्या है।

 

इससे व्यवस्था बनी रहेगी व हैलीपेड में अनावश्यक भीड भी नहीं रहेगी। साथ ही कहा कि जिन अधिकारियों के पास बीएसएनएल का नम्बर नहीें है वे आज ही बीएसएनएल का नम्बर लेकर जिला कार्यालय को उपलब्ध करा दंे, जिससे बातचीत करने में आसानी रहे। पुलिस अधीक्षक पीएन मीणा ने सुरक्षा व्यवस्थाओं पर चर्चा करते हुए कहा कि हैलीपैड में नियुक्त मजिस्ट्रेट का पीएमओ कार्यालय से अनुमोदन आवश्यक है। प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर सुरक्षा के विशेष इंतजाम किये जाएंगे।

 

इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी तीर्थपाल सिंह, मुख्य विकास अधिकारी डीआर जोशी, डिप्टी कलेक्टर प्रभारी अधिकारी देवानन्द, एसडीएम सदर मुक्ता मिश्र सहित अन्य मौजूद थे।