udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news पीने को पानी नहीं तो सिल्ली सेरा की ऐतिहासिक ' रोपणी' बन गयी किस्से !

पीने को पानी नहीं तो सिल्ली सेरा की ऐतिहासिक ‘ रोपणी’ बन गयी किस्से !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हमारी भी सुनो डबल इंजन की सरकार जी !!  देहरादून क्यूँ नहीं बस जाते ऐसे पिछड़े लोग…
उदय दिनमान डेस्क: अगस्त्यमुनि नगर पंचायत के वार्ड नं0 4 सिल्ली क्षेत्र की जनता पिछले 6 माह से एक एक बूंद पेयजल को तरस रही है।नहर के पानी से सिंचाई और सिल्ली सेरा की ऐतिहासिक ‘ रोपणी’ के हज़ारों किस्से तो अब सिर्फ बड़े बुजुर्गों से ही सुनने को मिलेंगे।

 

वैसे तो सरकार जी आपको तो पता ही होगा कि विगत एक वर्ष से निर्माणाधीन सौरगढ़-सौड़ भट्टगाँव संपर्क मार्ग का निर्माण जोरों पर है बल शायद आपके लिए प्रतिशत की गणित यहां ज्यादा मुफीद रही तभी जनता की पेयजल और सिंचाई जैसे फालतू के मुद्दों से आपका कोई क्या उखाड़ लेगा यही सोचा होगा आपने।

 

बात भी ठीक ही ठैरी तब्ब…………पेयजल और सिंचाई की सुविधा लोगों को मिलेगी तो फिर लोग खेतीबाड़ी के कामों में जुटेंगे,और जब काम धंधे में जुटेंगे तो फिर शराब कौन पिएगा ??? और जब शराब नहीं पिएंगे तो फिर राजस्व कहां से आएगा ??? और जब राजस्व नहीं आएगा तो फिर किस बात की सरकार और किस बात के चुनाव ???

 

आखिरकार चुनाव में तो liqure king ही तो माई बात होते हैं जिनके लिए सरकार होती है………….बाकी जनता तो सिर्फ एक दिन की जनार्दन है और वो भी मैनेज हो ही जाती है अंततः लोकतंत्र का हितधारक और चौथा खंबा भी तो है।अब जब सड़क ही नहीं होगी तो गाँव-गाँव तक शराब कैसे पँहुचेगी ??और कैसे नए शराब के ठेकों के लिए नई जगहों को ढूंढा जाएगा ??

 

आखिर मा0 न्यायालय का भी सम्मान तो करना ही हुआ आपको कि हाई वे से दूर खोले जाएं शराब के ठेके।भई अच्छे दिन जो आये हैं ये तो जताना ही पड़ेगा न। ये पेयजल और सिंचाई भी कोई मुद्दे हैं जनता के विकास के लिए भला ???? सुना है कि विधान सभा का सत्र चल रहा है बल ….फलां फलां विधेयक पास होंगे हजारों करोड़ की योजनाओं के लिए वित्त की व्यवस्था की जाएगी ,

 

जैसी कि परम्परा है ‘मित्र विपक्ष’ भी ‘जनता’ की बात सदन में पुरजोर रखेगी………..वो भी कोई जनता है जो ठेठ पहाड़ों में रह कर आज इस इक्कसवीं सदी में पेयजल और खेती की सिंचाई और सिल्ली सेरा की ‘रोपणी’ की बात कर आँसू बहा रहे हैं।देहरादून क्यूँ नहीं बस जाते ऐसे पिछड़े लोग………….

गजेंद्र रौतेला
की फेसबुक वाल से साभार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •