udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news ऑल वेदर रोड के मानकों को बाजारी क्षेत्रों में शिथिल करने की मांग

ऑल वेदर रोड के मानकों को बाजारी क्षेत्रों में शिथिल करने की मांग

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जिलाधिकारी से मिला संघर्ष समिति के पदाधिकारियों का शिष्टमंडल,गुप्तकाशी में बाईपास का भी विकल्प सुझाया

रुद्रप्रयाग। ऑल वेदर रोड संघर्ष समिति (गुप्तकाशी) ने ऑल वेदर रोड निर्माण के दौरान बाजारी क्षेत्रों के मानकों को शिथिल करने या फिर बाईपास मार्ग निर्माण की मांग की है। इस संबध में संघर्ष समिति ने प्रधानमंत्री को भी एक पत्र भेजा है।

 

वहीं संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल से मुलाकात कर अपनी समस्या दोहराई। संघर्ष समिति के अध्यक्ष केएस राणा, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष केदारनाथ श्रीनिवास पोस्ती, उद्योग व्यापार सभा के प्रदेश महासचिव प्रदीप बगवाड़ी, सामाजिक कार्यकर्ता बचन सिंह और मदन सिंह रावत ने जिलाधिकारी से कहा कि ऑल वेदर रोड गुप्तकाषी-गौरीकुंड के विस्तारीकरण में गुप्तकाशी बाजार में हिल साइड में स्थित व्यापारिक प्रतिष्ठानों, होटलों, यात्री विश्राम गृहों और आवासीय भवनों पर बिना किसी मानके के अतिक्रमण के चिन्ह लगाए गए हैं।

 

उन्होंने कहा कि गुप्तकाशी से गौरीकुंड की विषम भौगोलिक एवं प्राकृतिक परिस्थितियों के मददेनजर राष्ट्रीय राजमार्ग के विस्तारीकरण में भू अभिलेखों में अंकित वर्तमान संचालित मोटरमार्ग के मध्य बिंदु की दोनों ओर हिल एवं खड़ साइड में समान दूरी का मापन कर दस मीटर चौड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग का विस्तारीकरण किया जाए।

 

उन्होंने यह भी कहा कि गुप्तकाशी-गौरीकुंड मोटरमार्ग के पूर्व निर्माण में तत्कालीन सार्वजनिक निर्माण विभाग के दस्तावेजों में अंकित भू अभिलेखों को आधार मानकर मोटरमार्ग का वास्तविक चिन्हिकरण किया जाय और तत्कालीन मोटरमार्ग निर्माण में संबंधित ठेकेदारों द्वारा खड साइड को छोड़कर हिल साइड में अधिक कटान किया गया है, इसकी जांच की जाय।

 

उन्होंने कहा कि आबादी शून्य क्षेत्रों के अलावा ऑल वेदर रोड निर्माण के दौरान बाजारी क्षेत्रों में मानकों में शिथिलता प्रदान की जाय, जहां संभव हो बाईपास मार्ग का निर्माण कर क्षेत्रीय जनता को राहत दिलाई जाए। वहीं जिलाधिकारी ने कहा कि इस संबंध में एक प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा जाएगा। साथ ही उन्होंने एनएच के उच्चाधिकारियों से भी इस संबंध में वार्ता कर बीच का रास्ता निकालने को कहा।

Loading...

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •