udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news निस्वार्थ भाव से श्रद्धालुओं की सेवा कर रहा पुलिस का जवान

निस्वार्थ भाव से श्रद्धालुओं की सेवा कर रहा पुलिस का जवान

Spread the love
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares

सेना में भर्ती होने के बाद ट्रेनिंग के दौरान लगी चोट
पुलिस विभाग में तैनात होने के बाद कार्तिक स्वामी में कर रहे जनसेवा
रुद्रप्रयाग। कार्तिक स्वामी तीर्थ स्थित पुलिस संचार विभाग मंे ऑपरेटर पद पर तैनात रविन्द्र भण्डारी सरकारी सेवा में अहम योगदान देने के साथ ही कार्तिक स्वामी तीर्थ मे आने वाले श्रद्धालुओं की सेवा मे निरंतर लगे हुए है। कार्तिक स्वामी मंदिर, धर्मशालाआंे, पैदल सम्पर्क मार्गो की सफाई, तीर्थ यात्रियों को पानी पिलाना, उनका मार्ग दर्शन करना और श्रद्धालुओं के लिए भोजन पकाना उनकी दिनचर्या बन गयी है। वे श्रद्धालुओं की निःस्वार्थ सेवा करना अपना कर्तव्य समझते हैं।


मूलतः बच्छणस्यूं पट्टी के गहड़ गांव निवासी रविन्द्र भंडारी बचपन से ही फौज में जाने का सपना था और उनका यह सपना 14 अगस्त 2002 में पूरा हुआ। उनके गढ़वाल राइफल्स मंे भर्ती होने के बाद परिजनों में काफी खुशी थी, लेकिन उनकी यह खुशी तब दुख में बदल गयी जब ट्रेनिंग के दौरान रविन्द्र के पांव में चोट लगी और वर्ष 2004 में उन्हें घर भेज दिया।

सेना से घर आने के बाद रविन्द्र ने कभी भी हिम्मत नहीं हारी और अपने गांव में सरस्वती शिशु मंदिर की स्थापना कर दो वर्षो तक नौनिहालों को निःशुल्क शिक्षा दी। एक अप्रैल 2006 को रविन्द्र भण्डारी पुलिस संचार विभाग पौड़ी में भर्ती हुए और उन्हें दुर्गाधार में तैनाती मिली। 16/17 जून 2013 की आपदा के बाद नदी की तंरगों के ऊपर उठ जाने से पुलिस संचार विभाग के रिपीटर केन्द्र दुर्गाधार ने काम करना बन्द कर दिया, जिसके बाद रिपीटर केन्द्र को जखोली ले जाना पडा।

मगर रिपीटर केन्द्र ने वहां भी काम नहीं किया। आपदा के बाद केदारनाथ यात्रा का संचालन सोनप्रयाग से होने के कारण रिपीटर केन्द्र सोनप्रयाग में स्थापित किया गया और वर्ष 2016 में कार्तिक स्वामी तीर्थ में स्थापित किया गया। विगत दो वर्षो से रिपीटर केन्द्र में ऑपरेटर पद पर सेवा देने के साथ-साथ रविन्द्र भण्डारी कार्तिक स्वामी तीर्थ में हर दिन मंदिर, धर्मशालाओं की सफाई, पूजारियों व तीर्थ यात्रियों के जूठे बर्तन धुलना, लकडी फाड़ना, खाना बनाने के साथ-साथ श्रद्धालुओं की सेवा भाव में लगे हुए हैं।

कार्तिक स्वामी तीर्थ व पैदल मार्ग पर जहां भी गंदगी मिलती, वे उस स्थान को साफ कर देते। वे श्रद्धालुओं की सेवा करने को अपना सौभाग्य मानते हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी सेवा के साथ-साथ् भगवान कार्तिक स्वामी एवं भक्तों की सेवा करने का सौभाग्य मिल रहा है।

दो वर्षो में रविन्द्र ने कार्तिक स्वामी तीर्थ मंे इतनी लोकप्रियता हासिल कर दी है कि जो भी स्थानीय श्रद्धालु कार्तिक स्वामी तीर्थ आता है वह रविन्द्र से अवश्य मुलाकात करता है। उनके उत्कृष्ट कार्यो को देखते हुए पूर्व पुलिस अधीक्षक नीरू गर्ग व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी उन्हें सम्मानित कर चुके हैं।

  •  
    3
    Shares
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •