मकर संक्रांति से बदल जाएगी इनकी किस्मत, जाने कहीं आपकी राशि तो नहीं !

उदय दिनमान डेस्कः मकर संक्रांति से बदल जाएगी इनकी किस्मत, जाने कहीं आपकी राशि तो नहीं ! मकर संक्रांति यानि 14 जनवरी को सूर्य का मकर राशि में गोचर होने जा रहा है। सूर्य का 14 जनवरी को मकर राशि में प्रवेश रात्रि 8 बजकर 8 मिनट पर होगा। सूर्य मकर राशि में 13 फरवरी दोपहर 3 बजकर 02 मिनट तक रहेंगे।

ज्योतिष के अनुसार सूर्य के मकर राशि में गोचर से 14 जनवरी के बाद कुछ राशियों की किस्मत में बदलाब होगा। इस बार मकर संक्रांति पर सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, जो 15 जनवरी तक रहेगा।मकर संक्रांति पर स्नान-दान का योग 15 जनवरी (सोमवार) को भी बन रहा है। साथ ही सूर्य का मकर राशि में प्रवेश से सभी राशियों के लिए भाग्योदय के योग भी बनेंगे। आगे की स्लाइड्स में जानिए सूर्य का मकर में प्रवेश से आपकी राशि के लिए क्या खास बदलाव लाएगा।

मेष-मेष राशि के लिए यह गोचर दसन भाव में होगा जिसके परिणामस्वरूप जातकों को सम्मान की प्राप्ति संभव है। आपको अपने ऑफिस या कार्यक्षेत्र में उच्च अधिकारियों का सहयोग प्राप्त हो सकता है लेकिन ध्यान रखें माता-पिता के साथ थोड़ा विवाद हो सकता है। नौकरी में पदोन्नति भी संभव है।

वृष-वृष राशि की कुंडली में यह गोचर नौवें भाव में होने जा रहा है, जो जातक के सुख को प्रभावित करता है। यह गोचर आपके लिए समृद्धि और संपन्नता लेकर आ रहा है, जो आपको मानसिक रूप से संतुष्ट करने वाला है। अगर आप नया वाहन लेने का मन बना रहे हैं तो यह समय आपके लिए उत्तम है। किसे को धोखा देने या झूठ बोलने का विचार भी त्याग दें।

मिथुन-अगर आपकी कुंडली मिथुन राशि की है तो आपके लिए यह गोचर अष्टम भाव में होने जा रहा है। इस परिवर्तन में वजह से आपका पराक्रम भंग हो सकता है और साथ ही यह मुमकिन है कि भाई-बहनों के साथ कुछ मनमुटाव की स्थिति आ जाए। दांपत्य जीवन में थोड़ी कड़वाहट घुल सकती है।

कर्क-कर्क राशि के जातकों की बात करें तो उनके लिए यह गोचर सप्तम भाव में होने जा रहा है। उनके लिए यह गोचर विवाहित जीवन के लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता। साथ ही साथ सांझेदारों की वजह से हानि भी हो सकती है। जीवन साथी के स्वास्थ्य की समस्या उत्पन्न हो सकती है, अपना और उनका ध्यान रखें।

सिंह-सिंह राशि के जातकों के लिए यह गिचर छठे भाव में होने जा रहा है, जो किसी भी स्थिति में शुभ नहीं है। अगर किसी विपरीत ग्रह जैसे शनि, राहु की दशा चल रही है तो आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान अवश्य रखना चाहिए। आपको मानसिक परेशानियां झेलनी पड़ सकती है और साथ ही संतान की ओर से भी कुछ खटपट रह सकती है।

कन्या-अगर आपकी कुंडली कन्या राशि की है तो इस समय आपको सभी कार्यों में सफलता मिलने की संभावना है। शिक्षा और प्रतियोगिता जैसे क्षेत्रों में सफलता के पूर्ण योग बने हुए हैं, आप जिन कार्यों को अपने हाथ में लेंगे, वे सभी समय पर पूर्ण हो जाएंगे। समाज के प्रतिष्ठित लोगों के साथ आपके अच्छे संबंध बनेंगे।

तुला-यह गोचर चौथे भाव में होगा, जो शुभ नहीं है। आपके परिवार की स्त्रियां बीमार रह सकती है, जिसकी वजह से आप पारिवारिक सुख में कमी महसूस करेंगे। अगर आप कृषि से संबंधित कार्य में संलिप्त हैं तो आपको ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। घर में कलेह-क्लेश रह सकता है।

वृश्चिक-आपके लिए यह गोचर अत्यंत शुभ संयोग लेकर आ रहा है। यह गोचर आपको रोग और कर्जों से मिक्ति दिलाएगा। समाज में मान-सम्मान और प्रतिष्ठा बनेगी। इसके अलावे धन लाभ के भी शुभ स्थिति बन रही है। इस दौरान आपके अंदर पराक्रम भाव मजबूत होगा।

धनु-आपके लिए लिए यह गोचर कुछ अच्छा साबित नहीं होगा। इस गोचर के दौरान आप किसी बहुमूल्य चीज को खो सकते हैं। साथ ही आपको शारीरिक कष्ट भी सहने पर सकते हैं। इस बीच आपक मन अशांत रह सकता है। खुद पर नियंत्रण करने से कुछ हद तक समस्या का समाधान होगा।

मकर- सूर्य का गोचर मकर राशि में अष्टमेश होकर आ रहे हैं। परिणामस्वरूप आपको बिना उद्देश्य के कई यात्राएं करनी पड़ सकती है। यदि कुण्डली के सप्तमेश भाव में दोष रहने पर आपके वैवाहिक जीवन में काफी उतार-चढ़ाव होगा। गोचर की अवधि में आपको आंख और मुंह से संबंधित समस्या बनी रह सकती है।

कुंभ-सूर्य का गोचर आपके लिए अचानक धन हानि की संभावनाएं लेकर आएगा। नए कार्य या व्यापर में परेशानियां आ सकती है। यह परेशानी आपके लिए बहुत दिनों तक नहीं रहेगी। वाद-विवाद में फंसने की संभावना बन रही है। कोर्ट-कचहरी से दूर रहें।

मीन-सूर्य का यह गोचर आपकी वाक् शक्ति को बढ़ाएगा। आपके शत्रु पराजित होंगे और धन की समस्या दूर होगी। इस गोचर से आपको पुराने रोगों से मुक्ति मिलेगी। कर्जों से मुक्ति मिलेगी। साथ ही मानसिक परेशानी भी दूर हो जाएगी।