राज्यसभा में लगे देखो कौन आया है, भारत का शेर आया…ऐसे नारे

नई दिल्ली । देश में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में भाजपा दो राज्यों में प्रचंड बहुमत दिलाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज संसद की कार्यवाही में हिस्सा लेने पहुंचे।पीएम नरेंद्र मोदी ने आज राज्यसभा की कार्यवाही में हिस्सा लिया।

 

राज्यसभा में यह बात गौर करने वाली थी कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्यसभा में पहुंचे और अपने स्थान की ओर जाने लगे। जब पीएम मोदी अपने स्थान की ओर बैठने के लिए जा रहे थे उस दौरान कुछ भाजपा के सांसद नारे लगाने में व्यस्त थे। वह कह रहे थे, देखो देखो कौन आया है, भारत का शेर आया है। वहीं जब बीजेपी के सांसद यह नारा लगा रहे थे उस दौरान विपक्षी दल के सांसद चुप-चाप अपनी कुर्सी पर बैठे रहे।

 

दरवाजे से अपनी कुर्सी तक जब तक पीएम नरेंद्र मोदी पहुंच नहीं गए तब तक बीजेपी के ये सांसद यह नारा लगाते रहे। भाजपा के इन सांसदों की हरकत की वजह से संसद में जारी प्रश्नकाल में कुछ देर के लिए व्यवधान पैदा हुआ। गौरतलब है कि बुधवार को पहली बार लोकसभा में आने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पार्टी सदस्यों ने मेज थपथपा कर स्वागत किया था और भाजपा सदस्यों ने सदन में जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे भी लगाए थे।

 

राज्यसभा में विरोध में किया हंगामा ,पेट्रोल पंपों और एटीएम पर सरचार्ज का मामला
राज्यसभा में आज विपक्षी सदस्यों ने पेट्रोल पंपों पर ईंधन खरीदने के बाद क्रेडिट कार्ड से भुगतान किए जाने पर ‘ट्रांजेक्शन सरचार्ज’ लगाए जाने तथा एटीएम से रुपये निकालने पर नये अधिभार लगाए जाने को लेकर चिंता जाहिर की। राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए सपा के नरेश अग्रवाल ने कहा कि सरकार की ओर से वादा किया गया था कि क्रेडिट कार्ड एवं डेबिट कार्ड से पेट्रोल डीजल खरीदने पर कोई ईंधन अधिभार नहीं लिया जाएगा।

 

लेकिन उपभोक्ताओं से दो फीसदी का अधिभार लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बैंकों ने भी तय किया है कि एक माह में रुपये निकालने के लिए एटीएम का उपयोग चार बार से अधिक करने पर अधिभार लगेगा। बैंक बचत खाता में न्यूनतम राशि न रखने पर भी शुल्क लगाया जा रहा है। सरकार ने बैंकों को शुल्क पर पुनरूविचार करने को कहा था लेकिन बैंक सहमत नहीं हुए। सरकार पर पेटीएम को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए अग्रवाल ने कहा कि डिजिटल इंडिया के नाम पर सरकार ने चीन समर्थित डिजिटल वालेट पेटीएम के कारोबारी हितों को आगे बढ़ाया है।

 
सपा के रामगोपाल यादव ने कहा कि डिजिटल भुगतान पर जोर दिया जा रहा है लेकिन ऐसे लोगों की संख्या भी कम नहीं है जिन्होंने कभी एटीएम का ही उपयोग नहीं किया। तृणमूल कांग्रेस के नदीमुल हक ने निजी अस्पतालों द्वारा इलाज के एवज में गैर-पारदर्शी तरीके से भारी रकम लिए जाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में मरीजों से तय सीमा से अधिक राशि लिए जाने और चिकित्सकीय लापरवाही के कारण मौत होने पर मुआवजा देने का प्रावधान करने वाला एक कानून लागू किया गया है। केंद्र सरकार को भी इसी तरह का कानून बनाना चाहिए ताकि मरीजों को राहत मिल सके।कांग्रेस के मोहम्मद अली खान ने कहा कि कई निजी अस्पतालों में सीजीएचएस कार्ड धारक मरीजों को केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना पैकेज से बाहर इलाज कराने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

 

सरकार ने आरोप को किया खारिज
संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पेटीएम को सरकार की ओर से संरक्षण दिए जाने के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि सदस्य ने डिजिटल इंडिया पर सवाल उठाए हैं जबकि डिजिटल इंडिया विकसित भारत का एक क्रांतिकारी कदम है।