udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news क्या कहें जब ऐमजॉन मांगे आपका आधार डीटेल?

क्या कहें जब ऐमजॉन मांगे आपका आधार डीटेल?

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली। ऑनलाइन रिटेलर ऐमजॉन गुम हुए पैकेज ढूंढने में आसानी के लिए ग्राहकों से आधार डीटेल अपलोड करने को कह रहा है। उधर, रेंट पर कार देनेवाली बेंगलुरु की एक कंपनी जूमकार ने तो पहचान पत्र के रूप में आधार डीटेल नहीं देने पर सर्विस नहीं देने का ऐलान कर दिया है। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि क्या इन कंपनियों को अपना आधार डीटेल देना सुरक्षित है या इसके कोई खतरा है?

आधार मैनेज करनेवाली संस्था भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) शायद ऐसा करने को नहीं कहती है। पिछले साल यूआईडीएआई ने अपने ट्विटर हैंडल पर ग्राहकों को किसी के साथ अपने आधार डीटेल साझा करने को लेकर चेतावनी दी थी। उसने ट्वीट कर रहा था, हम आपसे आधार और पहचान के अन्य दस्तावेजों को लेकर काफी चौकन्ना रहने का आग्रह करते हैं। आधार सहित तमाम पहचान पत्रों के नंबर या उनकी प्रिंटेड कॉपी किसी को नहीं दें।

यूआईडीएआई ने यह भी कहा कि अगर आपको आधार देना ही है तो उस पर अपना दस्तखत जरूर करें ताकि इसका गलत इस्तेमाल नहीं किया जा सके। एक अन्य ट्वीट में उसने कहा, आप जहां कहीं भी आधार की कॉपी जमा कर रहे हों, इसे स्वअभिप्रमाणित (सेल्फ अटेस्ट) जरूर करें औरजमा करने का मकसद जरूर स्पष्ट करें ताकि इसका गलत इस्तेमाल नहीं किया जा सके।

स्पष्ट है कि यूआईएडीएआई को संदेह रहता है कि आप जब कभी भी थर्ड पार्टी के साथ अपना आधार डीटेल साझा करते हैं तो इसके गलत इस्तेमाल हो सकता है। ऐसे में क्या कोई इस बात को लेकर बेफिक्र रह सकता है कि ऐमजॉन और जूमकार जैसी कंपनियां उसके आधार का दुरुपयोग नहीं करेंगी? हालांकि ऐमजॉन का मानना है कि ग्राहकों के आधार डीटेल बेहद सुरक्षित तरीके से स्टोर किए जा रहे हैं।

ऐमजॉन के एक प्रवक्ता ने कहा, ऐमजॉन कस्टमर सपॉर्ट के लिए हमेशा से ही उच्च मानकों का पालन करता रहा है और यह प्रक्रिया सीमित मामलों में ही अपनाई जा रही है जहां गुम हुई या गलत डिलिवरी के लिए विस्तृत जांच की जरूरत पड़ती है। ऐसे मामलों में ग्राहकों से उनके ऐमजॉन.इन अकाउंट पर आधार की स्कैंड कॉपी अपलोड करने को कहा जाता है जो सूचना इक_ा करने का सुरक्षित तरीका है।

हालांकि, एक्सपर्ट्स ने आधार डीटेल शेयर करने के खतरे बताए हैं। नैशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली में सेंटर ऑफर गवर्नैंस की प्रॉजेक्ट मैनेजर और लॉयर स्मिता प्रसाद कहती हैं, इस तरह आधार डीटेल शेयर करने के बाद आधार डेटा पब्लिक कर या आधार और ग्राहकों की अन्य सूचनाओं के गलत इस्तेमाल से निजता का उल्लंघन का खतरा पैदा हो सकता है।

Loading...

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •