udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news किससे करें शिकायत किससे करें फरियाद,जहाँ एक ओर भेड़िये है एक ओर सियार !

किससे करें शिकायत किससे करें फरियाद,जहाँ एक ओर भेड़िये है एक ओर सियार !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अल्मोड़ा जिले के सल्ट क्षेत्र में 36 km लंबा मरचूला-भिकियासैण रोड़ PWD के भ्रष्टाचार का शिकार बन रहा है | PWD को समय पर रोड़ बनाने से कोई मतलब नही है बल्कि PWD अधिकारी काम को लटकाकर अपनी जेबे भरने में मस्त है | यदि ऐसा रहा तो 10 सालों में भी यह रोड़ नही बनेगा |

 

“क्षेत्र के युवाओं को रोजगार देने और पलायन को रोकने वाली इस महत्वपूर्ण सड़क परियोजना से सल्ट, देघाट,स्याल्दे, मासी, चौखुटियाँ और भिकियासैण के आस पास के सभी क्षेत्रों को जबरदस्त लाभ होगा |

 

 

PWD ने मई 2016 में एक साल के लिये इस रोड़ के 12 km के काम का ठेका दिया था अर्थात एक साल में 12 km बनना था परंतु आज भी काम आधा अधूरा पड़ा है और PWD ने ठेकेदार को आगे काम को जारी रखने का ईनाम भी दे दिया है | 7-8 महीने तक लेबर गायब, कई कई महिने मशीन खड़ी रही और जो थोड़ा बहुत काम हुआ वह भी केवल एक मशीन से हुआ परंतु PWD वालों ने लेबर और कई मशीनों का पूरे 365 दिन का मीटर घूमा रखा है |

 

किसकी जेब में कितना पैसा गया और इस पैसे से कौन कौन कितनी कितनी मौज उड़ा रहा है | यह जाँच का विषय है | साथियों इस रोड़ में PWD ने एक ऐसे पत्थर की खोज की है | जिसे 8 महीने से PWD तराश रहा है | दरअसल यह पत्थर नही बल्कि PWD के लिये पैसे की खान बन चुका है | PWD काम में देरी करता रहेगा और काम की लागत बढ़ती रहेगी और PWD के अधिकारियों की जेबे गर्म होती रहेगी |

 

 

जबकि इस रोड़ के बाकी बचे 24 km का काम भी अभी तक शुरू नही किया है जबकि उत्तराखंड सरकार ने इसका पूरा पैसा (₹36 करोड़) 15 नवंबर 2016 को जारी कर दिया था | दो बार इसके टेंडर लगाये गए और दोनों बार ही टेंडर रद्द/Cancel कर दिये |रोड़ के 24 km हिस्से का काम शुरू न करने की मुख्य वजह भी भ्रष्टाचार है क्योंकि PWD जितना देर से काम शुरू करेगा उतनी ही अधिक इसकी लागत बढ़ती जाएगी और काम लगने के बाद आगे का काम जारी रखने के लिए सरकार से ओर अधिक पैसो की माँग की जाएगी ताकि PWD के अधिकारी अपनी तिजोरियाँ भर सकें | इससे संबंधित ओर घोटालों का पता चला है जिसकी जानकारी बाद में शेयर करूंगा |

 

 

जिसके लिये जनता ने वर्ष 2014 से लगातार पुलिस की लाठी डंडे खाएं, दिल्ली देहरादून, पहाड़ में दर दर की ठोकरे खाई, अपना खून पसीना बहाया, नेशनल हाईवे पर जाम लगाया, जनता को झूठे मुकद्दमों में फसाया | तब कही जाकर इस रोड़ का काम शुरू हुआ |

 

 

और ये PWD के निक्कमे और भ्रष्ट अधिकारी जनता के खून पसीने पर मौज कर रहे हैं | बंद कमरो में बैठकर इस रोड़ के पैसों (₹36 करोड़) की बंदरबाट करने में लगे है और जनता के बलिदान और संघर्षो की हत्या कर रहे हैं | पैसों की हवस में अंधे इन अधिकारियों को समय पर रोड़ बनाने से कोई मतलब नही है बल्कि काम को लटकाकर अपनी जेबे भरते रहने से मतलब है | जनता की दुख तकलीफो बेबसी और लाचारी का इससे बड़ा मजाक क्या हो सकता है |

 

जबकि क्षेत्र के युवा बड़ी बेसब्री से इस रोड़ की आस लगाये बैठे है कि इसके बनने से उनके लिये रोजगार के अवसर पैदा होंगे और उन्हें शहरों में पलायन नही करना पड़ेगा |साथियों PWD के अधिकारियों के भ्रष्टाचार से तंग आकर पहाड़ की गरीब जनता 23 जुलाई को ओनेड़ी आश्रम, सल्ट क्षेत्र (अल्मोड़ा ) में अनशन पर बैठ रही है |आप सभी लोगों से निवेदन है कि PWD के भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ इस मुहिम का साथ दे और उत्तराखंड सरकार व केंद्र सरकार तक PWD के कारनामों को पहुँचाये |
– राकेश नाथ
Social Activist Uttarakhand

की फेसबुक वाल से साभार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •