udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news खलबली :  'लाश' चलती एंबुलेंस के स्ट्रेचर से कूदकर भागी !

खलबली :  ‘लाश’ चलती एंबुलेंस के स्ट्रेचर से कूदकर भागी !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उदय दिनमान डेस्कः खलबली :  ‘लाश’ चलती एंबुलेंस के स्ट्रेचर से कूदकर भागी !कभी-कभी ऐसे मामले भी सामने आते हैं, हकीकत का जब पता चलता है तो सभी लोगों में खलबली मचने के साथ लोग इसे नकारात्मक रूप में खूब प्रचारित भी करते हैं। ऐसा ही एक मामला बरेली में सामने आया।

 

बरेली में एक लाश के गाडी में से कूदकर भागने की अफवाह सभी की जुबा पर थी। लोग तरह-तरह की बाते करने के साथ-साथ अलग-अलग कहानियां बना रहे थे। पूरे शहर में यह चर्चा दिनभर रही तो फिर इस चर्चा का सोशल मीडिया पर आ जाना कोई बडी बात नहीं है। जब यह सोशल मीडिया पर आयी तो वहां भी यह जमकर वायरल हो गयी और पर पर चर्चा परिचर्चा होने लगी। चहिलए जानते है इसके बारे में विस्तार से।

 

मामले के अनुसार, बरेली में रेलवे कर्मचारी जिस रेल यात्री को मरा समझकर एंबुलेंस में ले जा रहे थे, वह अचानक एंबुलेंस से कूदकर भाग गया। यह देखकर रेलवे कर्मी भौचक्के रह गए। यात्री को राज्यरानी एक्सप्रेस से उतारा गया था। इस घटना के चलते राज्यरानी एक्स्प्रेस करीब डेढ़ घंटे तक कहेलिया स्टेशन पर खड़ी रही। इसके अलावा डुप्लीकेट, त्रिवेणी आदि गाड़ियों को भी रास्ते में रोका गया।

 

कहेलिया स्टेशन मास्टर के मुताबिक सोमवार को राज्यरानी एक्सप्रेस (22454) करीब चार घंटे लेट थी। दोपहर करीब 12 बजे गाड़ी शाहजहांपुर पहुंची, तभी किसी ने रेलवे कंट्रोल रूम को सूचना दी कि कोच बी-1 में एक युवक मृत अवस्था में पड़ा हुआ है।यह सूचना मिलते ही रेलवे में खलबली मच गई। गाड़ी को तत्काल कहेलिया स्टेशन पर रोके जाने का आदेश हुआ। आरपीएफ, जीआरपी और रेल अफसर कहेलिया स्टेशन पहुंचे। करीब डेढ़ घंटे बाद 108 एंबुलेंस स्टेशन पहुंची।

 

इसके बाद युवक को ट्रेन से उतारकर एंबुलेंस में स्ट्रेचर पर लिटाया गया। कागजी कार्रवाई पूरी होने के चालक एबुंलेंस लेकर चला ही था कि युवक स्ट्रेचर से उठ खड़ा हुआ और चलती एंबुलेंस से कूद गया।जीआरपी और आरपीएफ ने काफी खोजबीन की, मगर युवक का पता नहीं चला। बाद में जांच-पड़ताल करने पर पता चला कि युवक बेहोश था। किसी ने नशीला पदार्थ सुंघाकर उसके रुपये, कपड़े, मोबाइल आदि लूट लिए थे।

 

यह खबर आग की तरह जैसे ही शहर में फैली तो इस मामले की तह तक जाने के लिए सभी इधर-उधर जाने लगे और यह हवा अफवाह की तरह बन गयी और लोग अलग ही कहानी बनने लगे, जबकि इसकी हकीकत कुछ और ही थी। इस समाचार के माध्यम से लोगों से अनुरोध कि किसी भी खबर अथवा सूचना को अफवाह न बनाए। यह घातक भी हो सकती है। इसलिए सचेत रहे।

 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •