... ...
... ...

जनता दरबार: 57 शिकायतें दर्ज ,43 शिकायतों का निस्तारण

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रूद्रप्रयाग .  जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की अध्यक्षता में पुराने विकास भवन में आयोजित जनता दरबार कार्यक्रम में कुल 57 शिकायतें दर्ज हुई जिसके सापेक्ष 43 शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण किया गया।

 

जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग उखीमठ के अधीशासी अभियंता के जनता दरबार कार्यक्रम में उपस्थित न होने पर निलंबन की कार्यवाही के निर्देश दिए। कहा कि अधिकारी जनता दरबार कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति अनिवार्य रूप से दें और शिकायतों का निर्धारित समय के भीतर ही निस्तारण करें, यदि लापरवाही बरती जाती है तो उसके खिलाफ कडी से कडी कार्यवाही की जाएगी।

जनता दरबार कार्यक्रम में जिला पंचायत सदस्य आशा डिमरी ने शिकायत की कि उत्यासू-मल्यासू मोटरमार्ग का तीन किमी निर्माण होना है, लेकिन अभी तक मात्र एक किमी ही सडक काटी गई है। कहा कि विभागीय लापरवाही के चलते जनता को सडक सुविधा से वंचित रहना पड रहा है, जिस पर जिलाधिकारी ने शेष दो किमी पर कार्य पूर्ण होने तक ईई, एई और जेई का वेतन रोकने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनपद में जो स्कूल बंद हुए है, उन स्कूलों के बच्चों को कहां शिफ्ट किया गया है, उसकी सूची प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

 

शिकायतकर्ता प्रताप सिंह निवासी बज्यूण ने बताया कि वह गरीब से है और कर्च मांगकर किसी तरह शौचालय का निर्माण किया, तीन बार प्रार्थना पत्र विभाग का दे चुका हूं लेकिन अभी तक कोई सरकारी सहायता नहीं मिली है। जिस पर जिलाधिकारी ने पीएम स्वजल और बीडीओ अगस्त्युनि को कार्यवाही के निर्देश दिए। प्रधान नवासू भूपति रौथाण ने बताया कि क्षेत्र में अवैध शराब की भारी मात्र मे बिक्री की जा रही है, जिसे रोकने के लिए क्षेत्रांतर्गत अंग्रेजी शराब की दुकानें खोली जाय। जिस पर जिलाधिकारी ने आबकारी अधिकारी को तत्काल कार्यवाही के निर्देश दिए।

 

पूर्व सभासद हिमपाल भण्डारी ने शिकायत की कि ओएफसी लाइन बिछाने के दौरान गुलाबराय-रैंतोली पेयजल योजना क्षतिग्रस्त हो गई थी, छह माह बीत जाने के बाद भी योजना का पानी की आपूर्ति सुचारू नहीं हो पाई है, जिसके चलते जनता को भारी दिक्कतों का सामना करना पड रहा है। जिस पर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने अधिशीसी अभियंता जलसंस्थान को एक सप्ताह के भीतर पेयजल आपूर्ति सुचारू करने के निर्देश दिए।

 

हैबीेटेट फाॅर ह्यूमिनीटी के प्रोग्रामिंग मैनेजर निलेश राज वेदांत ने गौरीकुण्ड से केदारनाथ तक पब्लिक शौंचालय निर्माण हेतु जमीन उपलब्ध कराने की मांग की, जिस पर जिलाधिकारी ने सीडीओ, पर्यटन अधिकारी और एसडीएम उखीमठ को तत्काल कार्यवाही के निर्देश दिए।
जनता दरबार में कुंदी लाल विवासी निवासी नारी सतेराखाल ने कहा कि उनका परिवार गरीब रेखा से नीच जीवन यापन करता है, शौंचालय निर्माण हेतु कई बार सम्ंबधित विभाग को पत्राचार कर चुके हैं, लेकिन अभी तक स्वीकृति नहीं मिली है।

 

जिस पर जिलाधिकारी ने पीएम स्वजल को जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिए। श्रीमती मधू देवी निवासी क्यूंजा उच्चाढुंगी ने बताया कि उनके पति की वर्ष 2014 में मृत्यु हो गई थी, जिसके बाद परिवार के भरण-पोषण के लिए कोई जरिया नहीं है, दो लडकियां है और आवासीय भवन ही स्थिति भी जर्जर है, कहा कि नौकरी के साथ ही भवन निर्माण हेतु सरकारी सहायता प्रदान की जाय। जिस पर जिलाधिकारी ने एसडीएम रूद्रप्रयाग, समाज कल्याण अधिकरी व बीडीओ अगस्त्यमुनि को जांच के निर्देश दिए।

 

इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी डीआर जोशी, डीएफओ मयंक झा, एसडीएम सदर देवानंद सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी और फरियादी मौजूद थे।

Loading...