जातिवाद का जहर घोला ,विकास का मजाक उड़ाया, जनता ने उसे नकार दिया

नई दिल्ली। गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने गुजरात की जीत को बहुत बड़ी जीत बताते हुए कहा कि 30 साल बाद सूबे में फिर से जातिवाद के बीज बोने की कोशिश हुई, तरह-तरह के षडयंत्र रचे गए लेकिन जनता ने उन षडयंत्रों को नाकाम कर दिया।

गुजरात की जीत को विकास की जीत बताते हुए पीएम ने गुजरात के लोगों को शुक्रिया कहा। मोदी ने कहा कि गुजरात और हिमाचल के नतीजों से साबित होता है कि अगर आप विकास नहीं करते हैं और गलत काम में उलझे हुए हैं तो 5 साल बाद जनता आपको बेदखल कर देगी।

जीएसटी को लेकर दुष्प्रचार हुआ
प्रधानमंत्री ने कहा कि परिणामों से साफ है कि जनता जीएसटी जैसे सुधारों के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, जब यूपी में नगर निकाय के चुनाव चल रहे थे तो जोर-शोर से कहा जा रहा था कि जीएसटी की वजह से यूपी के शहरों में बीजेपी खत्म हो जाएगी। गुजरात चुनाव से पहले भी ऐसे ही अफवाहों का जोर था।

पिछले दिनों जीएसटी के बाद महाराष्ट्र में भी स्थानीय निकाय के चुनाव हुए तो बीजेपी को जीत मिली। मैं देश के बुद्धिजीवियों से आग्रह करता हूं कि हम जो यहां बैठकर देश के सामान्य मानविकी का आंकलन करते हैं और गलत दिशा में चले जाते हैं..उससे लोगों का भला नहीं होता और देश का नुकसान होता है। इन चुनाव परिणामों से स्पष्ट है कि देश रिफॉर्म के लिए तैयार है…परफॉर्म को लेकर पॉजिटिव है और ट्रांसफॉर्म में लोग विश्वास जता रहे हैं।

देश बदल रहा है
मोदी ने बिना नाम लिए केंद्र की पिछली यूपीए सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पहले लोगों में सरकार से आशाएं नहीं थी लेकिन अब नई आकांक्षाएं हैं। उन्होंने कहा, आज मिडल क्लास की आकांक्षाएं इतनी बढ़ी हुई हैं…पहले की सरकारों को लेकर इस देश के सामान्य मानविकी के मन में आशा-अपेक्षाएं नहीं थी। चलो भाई गुजारा कर लें, जैसे-तैसे काट लेते हैं…ऐसी सोच थी। लेकिन आज देश नई अपेक्षाएं, नई उम्मीदों, नई आकांक्षाओं और नए सपने लेकर चल रहा है।

विकास से भटके तो जनता स्वीकार नहीं करती
गुजरात में लगातार छठी बार बीजेपी के सत्ता में आने और हिमाचल में कांग्रेस से सत्ता छीनने को प्रधानमंत्री ने सीधे-सीधे विकास की जीत बताया। उन्होंने कहा, गुजरात हिमाचल के नतीजे इस बात के सबूत हैं कि अगर आप विकास नहीं करते हैं और गलत काम में उलझे हुए हैं तो 5 साल के बाद जनता आपको स्वीकार नहीं करती है। हिमाचल की जनता ने विकास के लिए वोट दिया है।