हॉलिवुड ऐक्टर जॉनी डेप जैसा बनना चाहता हूं:रणवीर सिंह

पद्मावत में खिलजी की शानदार और जानदार भूमिका निभाने के बाद जमकर तारीफ बटोर रहे बॉलिवुड अभिनेता रणवीर सिंह ने कहा कि वह महाभारत की फेमस लाइन कर्म कर फल की चिंता मत कर पर विश्वास करते हैं। वह कहते हैं कि एक बार किसी फिल्म में काम खत्म होने के बाद वह फिल्म को लेकर दर्शकों से उम्मीद लगाने में यकीन नहीं रखते हैं। रणवीर बताते हैं कि उम्मीद न करने की सोच उनके अंदर हॉलिवुड अभिनेता जॉनी डेप से आई है।

 

पद्मावत की रिलीज़ के बात मिली धुआं-धार सफलता और दर्शकों के प्यार से गदगद रणवीर कहते हैं, मुझे फिल्म को लेकर दर्शकों से किसी भी तरह की कोई उम्मीद नहीं थी, मुझे लगता है मैं समय के साथ और भी समझदार हो रहा हूं, वक्त के साथ सुलझ रहा हूं। मैं कर्म कर फल की चिंता मत कर वाली बात पर यकीन करता हूं, वैसे तो यह लाइन किताबी लगती है, लेकिन मैं इसे अपनी जिंदगी में फॉलो करता हूं।

 

रणवीर आगे बताते हैं, जब मैं कोई एक काम पूरा कर लेता हूं तो उसके बाद उस काम से एकदम अलग हो जाता हूं। दरअसल मैं अंतरराष्ट्रीय हॉलिवुड अभिनेता जॉनी डेप को बहुत फॉलो करता हूं, वह अपनी खुद की फिल्म रिलीज़ होने के बाद देखते भी नहीं हैं। एक दिन शायद मैं जॉनी डेप जैसा बन पाऊं, इस मामले में मुझे जॉनी डेप जैसा बनना है। मैं कोशिश तो करूंगा उनकी तरह बनने की, इसलिए मैं इनदिनों अपना काम कर देता हूं और उम्मीद नहीं करता हूं।

 

पद्मावत में खिलजी जैसे खूंखार खलनायक की भूमिका चुनने की वजह बताते हुए रणवीर ने कहा, खिलजी का रोल करना या यूं कहें एक खलनायक की भूमिका करना बहुत ज्यादा रिस्क लग रहा था, आज के समय कोई भी ऐक्टर निगेटिव रोल नहीं करते हैं, पहले भी ऐसे रोल करने बॉलिवुड के हीरो परहेज करते थे।

 

पहले खलनायक जैसी कुछ फिल्में बनी जरूर हैं लेकिन उन किरदारों में खिलजी की तरह हैवानियत नहीं थी। मुझे कभी न कभी तो अपनी लाइफ में एक मजबूत विलन का रोल करना था… तो मैंने सोचा चलो खिलजी की भूमिका निभा लिया जाए। दर्शक मुझे नेगटिव भी करार कर सकते थे, मुझे नापसंद भी कर सकते थे लेकिन अब जिस तरह की प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं मैं खुश हूं।

 

पद्मावत अब तक बनी सबसे महंगी हिंदी फिल्म है, फिल्म को पहले 1 दिसंबर 2017 को रिलीज किया जाना था। मगर कुछ गुटों के विरोध प्रदर्शन के कारण इसे 25 जनवरी 2018 को रिलीज किया जा सका। दरअसल इस फिल्म की कहानी रानी पद्मावती के इर्द-गिर्द घूमती है, जो कि महारावल रतन सिंह की पत्नी थीं और जिनकी खूबसूरती व वीरता की 13 वीं सदी में हर कहीं काफी चर्चा थी। उन्हें पाने के लिए तब के दिल्ली सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी ने एड़ी-चोटी का बल लगा लिया, मगर उन्हें फिर भी पा ना सके थे।

PropellerAds