हेमकुंड मार्ग खोलने का कार्य 20 अप्रैल से होगा शुरू

चमोली। समुद्रतल से 4500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित श्री हेमकुंड साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट हालांकि 25 मई को खोले जाने हैं, लेकिन इसके लिए तैयारियां अभी से होने लगी हैं।

सेना 20 अप्रैल से हेमकुंड पैदल मार्ग से हिमखंड व बर्फ हटाकर रास्ता बनाने का कार्य शुरू करेगी। साथ ही गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी भी यात्री सुविधाएं विकसित करने के लिए तैयारियों में जुट गई है।

आपदा के बाद पहली बार बीते सीजन में रेकार्ड यात्री हेमकुंड साहिब पहुंचे थे। इस बार भी गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी को ऐसी ही उम्मीद है और वह व्यवस्थाएं जुटाने को सक्रिय भी हो गई है। गुरुद्वारा प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने बताया कि 20 अप्रैल से श्री हेमकुंड साहिब पैदल मार्ग को खोलने का कार्य शुरू किया जाएगा।

वर्तमान में हेमकुंड साहिब से पहले तीन किमी क्षेत्र में पैदल मार्ग हिमखंड व बर्फ से अटा हुआ है। बताया कि सेना ने मार्ग से हिमखंड व बर्फ हटाने के लिए 15 दिन का समय मांगा है। बताया कि इस बार हेमकुंड साहिब में दो डाक्टरों की तैनाती भी की जाएगी। यह पहल पहली बार की जा रही है।

हेमकुंड साहिब जाने वाले यात्री इस बार भ्यूंडार में पक्के पुल से आवाजाही कर सकेंगे। 2013 की आपदा में भ्यूंडार पुल के बहने से यात्री कच्चे पुल पर आवाजाही कर रहे थे। गुरुद्वारा प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने कहा कि हेमकुंड साहिब में यात्रियों को बेहतर से बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने का प्रयास किया जाएगा।

PropellerAds