हैरतअंग्रेज : आंखों पर पट्टी बांधकर भी देख सकती है लक्षिता !

देहरादून। आज के इस आधुनिक युग में जहां इंसान खुद को शख्सियत पहचानने में समय बिता रहा है और वहीं कुछ ऐसे लोग भी जो अपनी इन्द्रियों को वश में रखकर हैरतअंग्रेज कारनामें भी कर सकते हैं, इनमें एक ऐसी नन्हीं बालिका लक्षिता है जो आंखों पर पट्टी बांधकर रंगों को पहचानना व किताब पढ़ना और अपनी छठी इन्द्री से यह वह सभी कार्य कर सकती है।

उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत में डायनमो ब्रैन बूस्टर की अध्यक्ष सुमन सैनी ने कहा कि कक्षा तीन की आठ वर्षीय छात्रा लक्षिता अरोडा ने यह कला सीखी है जिसकी बदौलत वह आंखों में पटटी बांधकर रंगों को पहचनना व किताब पढना और अपनी छठी इन्द्री से वह सभी कार्य कर सकती है जिसको बंद आंखों से करना असंभव है।

 

डायनमो ब्रैन बूस्टर शहर के विभिन्न स्कूलों में पढने वाले छात्र छात्राओं को प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है और यह असंभव कार्य मिड ब्रैन एक्टीवेशन तकनीक के द्वारा संभव हो कि जापान में प्राचीनकाल से चली आ रही है और अब वर्तमान में डायनमो द्वारा भारत मं भी यह प्रशिक्षण दिया जा रहा है। मिडब्रैन एक्टीवेशन तकनीक लेने से बच्चों की मैमोरी शार्प होती है।

 

इस अवसर पर चिल्ड्रन एकेडमी एसोसिएशन की डायरेक्टर किरन कश्यप ने लक्षिता अरोडा को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर आरूषि, शिवी, संगीता अरोडा आदि मौजूद थे।

PropellerAds