udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news गंदा पानी नदी में छोड़े जाने पर व्यापारी पर पांच हजार का जुर्माना

गंदा पानी नदी में छोड़े जाने पर व्यापारी पर पांच हजार का जुर्माना

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पैदल चलकर आम जन को किया स्वच्छता के प्रति जागरूक ,घाटों के किनारे चलाया सफाई अभियान

रुद्रप्रयाग। राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत आयोजित गंगा स्वच्छता पखवाड़ा में जनपद में स्वच्छता अभियान, वृक्षारोपण, हस्ताक्षर अभियान, आर्मी बैन्ड से गुलाबराय तक स्कूली बच्चों ने स्वच्छता रैली के साथ ही विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए।

इस अवसर पर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डि़याल के साथ अन्य विभागीय अधिकारियों ने नगरपालिका की पार्किंग के पीछे स्थित घाटों में सफाई अभियान चलाया। सफाई अभियान के दौरान पाया गया कि गंदा पानी नदी में जा रहा है, जिस संबंध में व्यापारी बंटी जगवाण को पांच हजार का जुर्माना लगाया गया।

इसके साथ ही जिलाधिकारी मंगेश घिल्डि़याल ने स्कूली बच्चों द्वारा निकाली गई रैली में पैदल चलकर आम जन को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया। गुलाबराय मैदान में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विधायक भरत सिंह चौधरी ने गुलबराय मैदान में वक्षारोपण के साथ ही हस्ताक्षर अभियान में भाग लेकर स्वच्छता का संदेश दिया।

इसके पश्चात मैदान में उपस्थित जनता, विद्यालय के बच्चों, शिक्षक, अधिकारियों एवं कर्मचारियों को नमामि गंगे के स्वच्छता की संकल्प दिलाई। इस अवसर पर विधायक भरत सिंह चौधरी ने कहा कि पर्यावरण के प्रति सभी को सजग होना चाहिए। गंगा की महिमा के विषय में कहा कि गंगा आदिकाल से मां व जीवनदायिनी के स्वरूप में जानी जाती है, लेकिन गंगा अपनी प्रौढ़ावस्था में है और गंगा मां की चिन्ता का समय आ गया है कि किस प्रकार मां को उसके स्वरूप को बनाए रखा जाए।

इसमें सभी की सहभागिता की आवश्यकता है। देश के हर नागरिक को दृढ़ संकल्प लेना होगा कि अपने आस पास के क्षेत्र व तटीय स्थानों को स्वच्छ रखे। कार्यक्रम में गंगा विचार मंच, परमार्थ निकेतन, स्पर्श गंगा, ग्राफिक एरा, गंगा सभा द्वारा सहायोग किया गया। इसके साथ ही विभिन्न विद्यालयों के बच्चो द्वारा संास्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष विजय कप्रवान, नगर पालिका अध्यक्ष राकेश नौटियाल, केदारनाथ देव सेमवाल, अनुसचिव भारत सरकार केके सापरा, परियोजना निदेशक एनएस रावत, पर्यावरण विशेषज्ञ पीएस मटूडा सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी, विद्यालय के शिक्षक, बच्चे व क्षेत्रीय जनता उपस्थित थी।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •