udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news  एशिया की सबसे लंबी जोजिला सुरंग पीएम मोदी ने रखी आधारशिला

 एशिया की सबसे लंबी जोजिला सुरंग पीएम मोदी ने रखी आधारशिला

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लेह । दो दिन के दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर पहुंच गए हैं। यहां वह सबसे पहले लेह पहुंचे जहां उन्होंने 19वें कुशोक बकुला की 100वीं जयंती के समापन समारोह में शामिल हुए। पीएम ने एशिया की सबसे लंबी जोजिला सुरंग की आधारशिला रखी। पीएम मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में कृषि विकास की असीम संभावना है। साथ ही हेल्थकेयर क्षेत्र में मदद के लिए जम्मू-कश्मीर राज्य मुख्य भूमिका निभा सकता है।

पीएम मोदी ने कहा, जम्मू-कश्मीर राज्य को 25 हजार करोड़ की लागत की विकास परियोजनाएं मिलने जा रही हैं। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं का राज्य के लोगों पर सकारात्मक असर पड़ेगा। पीएम मोदी ने कहा, मैं खुश हूं कि आज मैं जम्मू-कश्मीर के तीन क्षेत्रों का दौरा करूंगा। मैं लेह के बाद श्रीनगर और फिर जम्मू जाऊंगा।

पीएम मोदी ने यहां सभी मौसमों में संपर्क मुहैया कराने वाली एशिया की सबसे लंबी जोजिला सुरंग का आधारशिला रखी। यह 14 किमी लंबी सुरंग भारत की सबसे लंबी सडक़ सुरंग और एशिया की सबसे लंबी द्वि-दिशात्मक सुरंग होगी। 6,800 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली सुरंग हर मौसम और परिस्थिति में श्रीनगर, कारगिल और लेह को जोड़ेगी। इस सुरंग की मदद से जोजिला पास को सिर्फ 15 मिनट में पार कर लिया जाएगा। वर्तमान में जोजिला पास को पार करने में साढ़े तीन घंटे लगते हैं।

लद्दाखी आध्यात्मिक गुरु कुशक बाकुला को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, 19वें लद्दाखी आध्यात्मिक गुरु कुशक बाकुला ने खुद को एक उत्कृष्ट राजनयिक के रूप में पहचान दिलाई। मैंने अपने मंगोलिया दौरे पर लोगों के बीच उनकी सद्भावना को महसूस किया था। उन्होंने आगे कहा, हम उनके महान योगदान को याद करते हैं।

उन्होंने अपने जीवन को दूसरों की सेवा में समर्पित कर दिया था।
पीएम मोदी इसके बाद श्रीनगर जाएंगे जहां वह शेर-आई-कश्मीर इंटरनैशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर (एसकेआईसीसी) में 330 मेगावॉट किशनगंगा जलविद्युत परियोजना का उद्धाटन करेंगे। इस प्रॉजेक्ट को हिंदुस्तान कंट्रक्शन कॉर्पोरेशन (एचसीसी) द्वारा प्रतिकूल मौसम की स्थिति, नियंत्रण रेखा के पास से गोलाबारी और फायरिंग को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है।

Loading...

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •