धर्मार्थ चिकित्सालय: व्यवस्थाएं देख सीएम खासे गदगद

चमोली। तीन मेगावाट की उर्गम जल विद्युत परियोजना के लोकार्पण करने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत शुक्रवार को सेमलडाला पीपलकोटी पहुंचे। यहां उन्होंने स्वामी विवेकानन्द धर्मार्थ चिकित्सालय का भ्रमण किया। यहां की व्यवस्थाएं देख सीएम खासे गदगद नजर आए। इस दौरान सीएम को ज्ञापन देने वालों का तांता लगा रहा।

उर्गम जल विद्युत परियोजना के कार्यक्रम के लिए आए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने लौटते समय सेमलडाला पीपलकोटी के स्वामी विवेकानन्द धर्मार्थ चिकित्सालय का भ्रमण किया। कहा कि आने वाले समय में यह अस्पताल स्वास्थ्य सेवाओं के लिए मील का पत्थर साबित होगा। बण्ड विकास संगठन ने मुख्यमंत्री से मांग उठाई कि सेमलडाला में पिटकुल की भूमि को स्वामी विवेकानन्द धर्मार्थ चिकित्सालय और अंग्रेजी माध्यम का 12वीं तक विद्यालय खोलने के लिए दिया जाए।

इसपर मुख्यमंत्री ने सहमति व्यक्त की। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने वार्डों में भर्ती मरीजों का हाल-चाल जाना। इस दौरान लोगों ने सीएम को क्षेत्र की मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपे।

लोगों से सीएम से क्षेत्र में पशु चिकित्सालय और गरूडगंगा से मायापुर कौडिया तक पेयजल योजना की मांग की। साथ ही कहा कि लोक निर्माण विभाग के खाली पड़ी भूमि और भवन ऑल वेदर रोड का निर्माण करने वाली एनएचडीआईसीएल को कार्यालय खोलने के लिए दिया जाएगा। साथ ही विभिन्न मोटर मार्गों के निर्माण की मांग भी सीएम के सामने रखी। इस दौरान बण्ड क्षेत्र के भूतपूर्व सैनिकों द्वारा चलाये जा रहे भर्ती पूर्व प्रशिक्षण में प्रशिक्षार्थियों से मुलाकात कर उन्होंने युवाओं को शुभकामनाएं दी।

इस अवसर पर बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र भट्ट, बण्ड संगठन के पूर्व अध्यक्ष अतुल शाह, जिला पंचायत सदस्य देवेन्द्र नेगी, आरएसएस के जिला प्रचारक बृजमोहन, जिला शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष कमल किशोर डिमरी, विहिप के जिला मीडिया प्रभारी कुलबीर बिष्ट, अस्पताल व्यवस्थापक रोहन, डा सुशील यादव, प्रेम विश्नोई, भाजपा जिलाध्यक्ष मोहन प्रसाद, सांसद प्रतिनिधि रघुवीर बिष्ट, विधायक प्रतिनिधि मोहन नेगी, हरीश नेगी, भाजयुमो के जिलाध्यक्ष नवल भट्ट, राम कृष्ण रावत, सुखदेव सिंह, विवेक शाह, देवी हटवाल, रोजन्द्र प्रसाद, दीपक पंत, हरीश पुरोहित, क्षेपंस सुनीता शाह, भागीरथी कुंजवाल, ऊषा रावत, शांति राणा, पुष्पा पासवान आदि मौजूद थे।

PropellerAds