... ...
... ...

चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की लगी भीड़

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ऋषिकेश। वर्ष 2013 में केदारघाटी में प्रलय से हुई तबाही के बाद चारधाम यात्रा की रफ्तार धीमी हो गई थी। खौफ के चलते वर्ष 2014 और 15 में अपेक्षा से कम तीर्थयात्री ही चारधाम के दर्शन के लिए पहुंचे। लेकिन 2018 में चारधाम यात्रा के पिछले रिकार्ड टूटने की उम्मीद है।

 

यात्रा प्रशासन संगठन के आंकड़े इसका संकेत दे रहे हैं। इस बार कपाट खुलने के पहले दिन 25,075 यात्री केदारनाथ धाम पहुंचे। जो पिछले दो सालों की तुलना में तीन गुना है।उत्तराखंड की विश्वप्रसिद्ध चारधाम यात्रा अब फिर से अपने पुराने स्वरूप में लौटने लगी है। वर्ष 2013 की प्राकृतिक आपदा के बाद चारधाम यात्रा में कमी आ गई थी।

 

हालांकि वर्ष 2016 से यात्रा जोर पकडऩे लगी, लेकिन इस साल शुरूआती रुझान चारधाम यात्रा के पुराने रिकार्ड तोडऩे का संकेत दे रहे हैं।यात्रा प्रशासन संगठन के रिकार्ड में दर्ज आंकड़े इसकी पुष्टि कर रहे हैं। यात्रा प्रशासन संगठन के व्यैक्तिक सचिव एके श्रीवास्तव ने बताया कि 29 अप्रैल को केदारनाथ धाम के कपाट खुले और पहले दिन 25,075 श्रद्धालु केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे।

 

श्रद्धालुओं की यह संख्या पिछले दो सालों के मुकाबले में अप्रत्याशित है। तीन साल में तीर्थयात्रियों की संख्यावर्ष 2016 में केदारनाथ धाम के कपाट 9 मई को खुले थे, तब पहले दिन दर्शन करने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या 7,064 थी। वर्ष 2017 में 3 मई को कपाट खुले और 9,439 तीर्थयात्री बाबा केदार के दर्शन को पहुंचे। वर्ष 2018 में 29 मई को कपाट खुलने के पहले दिन श्रद्धालुओं की संख्या 25,075 रही।

Loading...