सेलो ने ‘ड्रीमैथॉन 2017’ के लिए डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम सेंटर के साथ साझेदारी की

देहरादून। सेलो, भारत में लेखंन उपकरण बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी, ने ‘ड्रीमैथॉन 2017’ के लिए आज डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम सेंटर के साथ अपनी साझेदारी की घोषणा की। ‘ड्रीमैथॉन 2017’ एक पहल है, जिसे डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के भारत के युवाओं में जुनून को जागृत करने, रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने एवं प्रतिभा को प्रदर्शित करने के विजन से प्रेरणा लेकर सृजित किया गया है।
इस साझेदारी के जरिए सेलो और कलाम सेंटर का उद्देश्य भारत के युवाओं को आवश्यक कौशल उपलब्ध कराते हुए उन्हें समर्थन प्रदान करना है, जो उन्हें एक व्यक्ति के रुप में अपनी पूरी क्षमता को हासिल करने में सहायता करेगा। ‘ड्रीमैथॉन 2017’ समुदाय के शिक्षकों व सदस्यों सहित विभिन्न हितधारकों को संलग्न कर युवाओं को प्रशिक्षण, संरक्षण एवं संसाधनों का समर्थन प्रदान करेगा। इस कैंपेन की योजना अगले 7 महीने में 2500 स्कूलों व कॉलेजों को कवर करते हुए लगभग 13 राज्यों में 1 मिलियन युवाओं तक पहुंच कर अपना प्रभाव डालना है।
दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में इस कैंपेन के शुभारंभ की घोषणा की गई। इस वर्ष के ड्रीमैथॉन की थीम ‘मिसाइल ऑफ ड्रीम्स’ को एक कस्टमाइज्ड वैन की पेशकश के जरिए लॉन्च किया गया था। यह वैन 10,000 किलोमीटर की दूरी तय करेगी और इस थीम के मुख्य विचार का प्रचार करते हुए स्कूलों एवं कॉलेजों के विद्यार्थियों को जोड़ कर अनेक शहरों की यात्रा करेगी। इस थीम का मुख्य विचार यह है कि सपने वह नहीं होते जो हम सोते समय देखते हैं, बल्कि सपने वह होते हैं जो हमें सोने नहीं देते।
सृजन पाल सिंह, सीईओ, कलाम सेंटर एवं भूतपूर्व सलाहकार, डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने कहा कि, ‘‘हमारे ड्रीमैथॉन कैंपेन में हमारा समर्थन करने के लिए हम बीआइसी-सेलो के बहुत आभारी हैं, क्योंकि राष्ट्र के युवा अपने सपनों के भारत के लिए अपने विचारों को अभिव्यक्त करते हुए अपने भाग्य का निर्धारण करेंगे।’’

रतनजीत दास, सीईओ, बीआइसी-सेलो इंडिया ने कहा कि, ‘‘युवा हमारे देश का भविष्य हैं और हम कलाम सेंटर के साथ साझेदारी कर संतुष्टि का अनुभव कर रहे हैं और करोड़ों युवा मस्तिष्कों को जागृत करने के डॉ. कलाम के विजन को हासिल करने में अपना पूरा समर्थन प्रदान करने के लिए कृतसंकल्प हैं। ‘ड्रीमैथॉन 2017’ भारत के युवाओं को बेहतर शिक्षित भविष्य के पथ की ओर अग्रसर होने के लिए प्रोत्साहित करेगा।’’

नवीर खान, निदेशक – विपणन, बीआइसी-सेलो इंडिया ने कहा कि, ‘‘सेलो के अंतर्गत हम हमेशा से अगली उपलब्धि के विषय में सोचते हैं और हम उसी विजन को साझा करते हैं, जिसे कलाम सेंटर लेखन व चित्रकारी में सृजनात्मकता व जुनून के साथ प्रशिक्षण हेतु संयोजित करता है। हम भारत के युवाओं को ‘दी ज्वॉय ऑफ राइटिंग’ (लेखन के आनंद) के अनुभव को उपलब्ध कराना चाहते हैं।’’

PropellerAds