udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news भीषण हादसा: उत्तराखंड में खाई में गिरी बस, 48 की मौत, पीएम ने जताया गहरा दु:ख

भीषण हादसा: उत्तराखंड में खाई में गिरी बस, 48 की मौत, पीएम ने जताया गहरा दु:ख

Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares

कोटद्वार: भीषण हादसा: उत्तराखंड में खाई में गिरी बस, 48 की मौत, पीएम ने जताया गहरा दु:ख. उत्तराखंड में एक और बड़ा हादसा हो गयाहादसे में 48 लोगों की मौत हो गई, जबकि 8 लोग घायल हो गए। घायलों को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। एसडीआरएफ के आइजी संजय गुंज्याल ने बताया कि घायलों को दून लाया जाएगा। मृृतक सभी स्‍थानीय बताए जा रहे हैं। अभी दुर्घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

 

जानकारी के अनुसार, आज सुबह यात्रियों से खचाखच भरी बस भौन से रामनगर जा रही थी। नैनीडांडा ब्लॉक में पिपली-भौन मोटर मार्ग पर ग्वीन पुल के पास बस अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। हादसे में 48 लोगों की मौत हो गई। वहीं, सूचना पर पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर रवाना हो गई है।हादसे में 46 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो लोगों ने अस्‍पताल में दम तोड़ दिया। हादसे में सात लोग घायल हो गए।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बस दुर्घटना ट्वीट करते हुए गहरा दुख व्यक्त किया है. उन्होंने मृतकों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए जिला प्रशासन को तत्काल राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं. स्थानीय प्रशासन, पुलिस और एसडीआरएफ बचाव कार्य में जुट गए हैं.बस दुर्घटना पर राज्यपाल केके पॉल के गहरा दुख व्यक्त करते हुए, मृतकों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना जतायी है. स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल ने भी हादसे पर दुःख जताया है.

 

बताया जा रहा है कि बस 28 सीटर है और बस सड़क से करीब 60 मीटर नीचे संगुड़ी गदेरे( बरसाती नाले) में गिरी है।बताया जा रहा है कि बस 28 सीटर है और उसमें 57 यात्री सवार थे। बस सड़क से करीब 60 मीटर नीचे संगुड़ी गदेरे (बरसाती नाले) में गिर गई। जिला आपदा कंट्रोल रूम ने हादसे में 48 लोगों के मरने की पुष्टि की है।

जानकारी के मुताबिक 28 सीटर इस प्राइवेट बस में 50 से ज्यादा लोगों को भर कर ले जाया जा रहा था।बस सड़क से करीब 100 मीटर नीचे गदेरे ( बरसाती नाले) में गिरी है। स्थानीय लोगों और पुलिस, प्रशासन की टीम के द्वारा रेस्क्यू कार्य किया जा रहा है। एसडीआरएफ की टीम हेलीकॉप्टर से मौके के लिए रवाना हो चुकी है। घायल लोगों को रामनगर और कोटद्वार ले जाया जा रहा है।

बस सड़क से करीब 100 मीटर नीचे गदेरे ( बरसाती नाले) में गिरी है। स्थानीय लोगों और पुलिस, प्रशासन की टीम के द्वारा रेस्क्यू कार्य किया जा रहा है। एसडीआरएफ की टीम हेलीकॉप्टर से मौके के लिए रवाना हो चुकी है। घायल लोगों को रामनगर और कोटद्वार ले जाया जा रहा है।

घायलों को रेस्क्यू के लिए देहरादून के सहस्रधारा हेलीपेड से हेलीकॉप्टर भेजा गया है। एसडीआरएफ के आईजी संजय गुंज्याल ने बताया कि घायलों को देहरादून लाया जाएगा। वहीं मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने धुमाकोट के हादसे पर संवेदना व्यक्त की है और जिला प्रशासन को तत्काल राहत बचाव कार्य के आदेश दिए हैं। वहीं गढ़वाल कमिश्न दिलीप जावलकर ने बताया कि 20 शव निकाले जा चुके हैं और 12 घायलों को अस्पताल भेजा गया है।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दुर्घटना में मृतकों के आश्रितों को 2-2 लाख रुपए, घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि अविलम्ब उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। कहा, आवश्यक होने पर घायलों को उपचार के लिए देहरादून लाने के लिए हेलीकॉप्टर का भी प्रयोग किया जाएगा।

पीएम ने जताया गहरा दु:ख

धुमाकोट दुर्घटना पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरा दुःख जताया। मुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को फोन पर दुर्घटना के बारे मे अवगत कराया है। उन्होंने मदद का भरोसा दिया है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पौड़ी गढ़वाल के धूमाकोट के पास हुई बस दुर्घटना पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगतों की आत्मा की शांति एवं दुःख की इस घड़ी में उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। मुख्यमंत्री ने दुर्घटना में घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है।
मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रूपये एवं घायलों को 50-50 हजार रूपये की राशि अभिलम्भ उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। घायलों को नजदीकी अस्पतालों रामनगर, हल्द्वानी में भर्ती कराया जा रहा है। उन्होंने बस दुर्घटना की मजिस्ट्रेट जांच के भी आदेश दिये है।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पौड़ी में हुई बस दुर्घटना में मृतकों के प्रति संवेदना प्रकट की है। केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह एवं केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जगत प्रकाश नड्डा ने फोन के माध्यम से इस दुर्घटना पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री को हरसंभव मदद का भरोसा दिया है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने जिला प्रशासन स्थानीय प्रशासन, पुलिस व एसडीआरएफ को तत्काल राहत पहुंचाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिये कि घायलों के हर संभव उपचार सुनिश्चित किया जाय। प्रशासन, पुलिस एवं एसडीआरएफ की टीम राहत एवं बचाव कार्य में जुटी है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र, दुर्घटना स्थल के लिये रवाना हो चुके है।

वही दूसरी ओर, हल्द्वानी जा रही रोडवेज की बस अचानक अनियंत्रित होकर खार्इ में गिरने लगी।गनीमत रही कि खार्इ में पूरी तरह से गिरने के बजाय बस पेड़ पर अटक गर्इ और बड़ा हदसा होने से टल गया। घटना शाम करीब पांच बजे की है। नैनीताल से करीब करीब 15 किमी दूर ज्योलिकोट हल्द्वानी-मार्ग पर हलद्वानी की ओर जा रही रोडवेज बस एक नंबर बैंड पर दुर्घटनाग्रस्त होकर करीब 20 मीटर खाई में गिरने लगी।

 

तभी सामने से पेड़ ने बस को खार्इ में गिरने से रोक लिया। इसके बाद मौके पर लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गर्इ। कुछ लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दे दी। वहीं, बस सवार सभी यात्रियों की जान आफत में थी। वे मदद के लिए जोर-जोर से चिल्ला रहे थे। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने राहत बचाव कार्य शुरू किया। गनीमत रही कि बस में सवार सभी 35 यात्री बाल-बाल बच गए।

Posted by Netra Dhyani on Saturday, 30 June 2018

 

  •  
    4
    Shares
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •