... ...
... ...

भगवान तुंगनाथ के लिये श्रद्धालुओं ने बनाया नये अनाज का भोग

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

तृतीय केदार तुंगनाथ की डोली शीतकालीन गददीस्थल से तुंगनाथ के लिये रवाना,2 मई को खुलेंगे तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट

रुद्रप्रयाग। पंच केदारांे में तृतीय केदार के नाम से विख्यात भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल तंुगनाथ मन्दिर मक्कूमठ से हिमालय के लिये रवाना हो गयी है। प्रथम रात्रि प्रवास के लिये भगवान तुंगनाथ की डोली गांव के निकट भूतनाथ मन्दिर पहुंची। 2 मई को भगवान तंुगनाथ की डोली के धाम पहुंचने पर तंुगनाथ तीर्थ के कपाट ग्रीष्मकाल के लिये खोल दिये जाएंगे।

 

सोमवार को वेदपाठियों व विद्वान आचार्यो ने भगवान तंुगनाथ की चल विग्रह उत्सव मूर्तियों की पंचांग पूजन व पौराणिक परम्परओं के अनुसार विशेष पूजा अर्चना कर आरती उतारी गई तथा चल विग्रह उत्सव मूर्तियों को चल विग्रह उत्सव डोली में विराजमान कर डोली का विशेष श्रृंगार किया गया। ठीक साढ़े नौ बजे भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल मक्कूमठ से कैलाश के लिये रवाना हुई। डोली के धाम के लिये रवाना होते ही मक्कू गांव तुंगनाथ के जयकारों से गुंजायमान हो उठा।

 

भगवान तुंगनाथ की डोली व तंुगनाथ धाम तक साथ चलने वाले अनेक देवी देवता के निशाणों ने मक्कू गांव में विराजमान तुंगनाथ मन्दिर की तीन परिक्रमा कर धाम के लिये रवाना है। भगवान तंुगनाथ की डोली के धाम रवाना होते ही श्रद्वालुओं ने डोली को लाल पीले वस्त्र अर्पित किये तथा डोली का पुष्प व जौ से स्वागत किया। डोली गांव के हर तौकों व खेत खलिहानों में श्रद्वालुओं को आशीष देते हुये पुणखी नामक तोक पहुंची जहां पर श्रद्वालुओं ने भगवान तंुगनाथ को नये अनाज का भोग लगाकर पुणखी मेले का आयोजन किया।

 

दोपहर 2 बजे भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली व अनेक देवी देवताओं के निशान पुणखी तोक से भूतनाथ मन्दिर के लिये रवाना हुये। मंगलवार को भगवान तंुगनाथ की डोली विभिन्न यात्रा पडावों पर श्रद्वालुओं कों आशीष देते हुये द्वितीय रात्रि प्रवास के लिये चोपता पहुंचेगी। 2 मई को भगवान तंुगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली चोपता से रवाना होकर सुरम्य मखमली बुग्यालों से होते हुये तुंगनाथ धाम पहुंचेगी तथा डोली के धाम पहुंचने पर भगवान तंुगनाथ के कपाट ग्रीष्मकाल के 6 माह के लिये खोल दिये जायंेगे।

 

इस मौके पर प्रबन्धक प्रकाश पुरोहित, विनोद मैठाणी, अजय मैठाणी, संजय मैठाणी, विजय भारत मैठाणी, चन्द्रबल्लभ मैठाणी, राम प्रसाद मैठाणी, मनोज शर्मा, आशीष मैठाणी, मुकेश मैठाणी, प्रियधर मैठाणी, माहेश्वर मैठाणी, भगवती प्रसाद मैठाणी, भूपेन्द्र मैठाणी, रविन्द्र मैठाणी, जय ंिसंह चौहान, मदन सिंह राणा, सतीश मैठाणी, जगदम्बा प्रसाद मैठाणी, उमेद सिंह नेगी, नरेन्द्र सिंह भण्डारी, शिव ंिसह रावत, अनुज रावत, जीतपाल सिंह भण्डारी, नागेन्द्र भट्ट, अजय आनन्द नेगी, धनान्द मैठाणी, आरसी उनियाल, अग्रेज सिंह नेगी, महेन्द्र ंिसंह नेगी, त्रिलोक सिंह नेगी, राजेश रावत, मुकेश शुक्ला, खुशहाल सिंह नेगी, धीर ंिसह नेगी, देवेन्द्र रावत, पूनम नौटियाल, एसआई सुरेन्द्र दत्त गैरोला सहित सैकडो श्रद्वालु मौजूद थे।

Loading...