... ...
... ...

बम धमाकों में 40 की मौत, 45 जख्मी !30 लोगों की हालत नाजुक !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

काबुल. अफगानिस्तान में सोमवार को हुए तीन अलग-अलग बम धमाकों में 40 लोगों की मौत हो गई। 45 से ज्यादा जख्मी हुए। ये सभी फिदायिन हमले थे। पहले दो धमाके काबुल में हुए। इनमें 7 मीडियाकर्मियों समेत 29 लोगों की मौत हो गई। तीसरा धमाका कंधार प्रांत के एक मदरसा में हुआ। इसमें 11 छात्रों की मौत हो गई। बता दें कि पिछले हफ्ते भी यहां वोटर रजिस्ट्रेशन सेंटर पर आतंकी हमला किया गया था, जिसमें 60 लोगों की मौत हो गई थी।

 

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पहला धमाका भारतीय समयानुसार करीब 9 बजे शाश दरक इलाके में नेशनल डायरेक्टोरेट ऑफ सिक्योरिटी (एनडीएस) के ऑफिस के पास हुआ। इसका मीडिया कवरेज हो रहा था, तभी दूसरा धमाका हुआ। मृतकों में ज्यादातर मीडियाकर्मी और एनडीएस के कर्मचारी हैं। पुलिस का मानना है कि हमलावर मीडियाकर्मियों और सुरक्षाकर्मियों को ही निशाना बनाना चाहते थे। यही वजह है कि पहले धमाके के कुछ देर बाद दूसरा धमाका किया गया।

 

कंधार में विदेशी फौज के काफिले के पास एक फिदायीन ने खुद को धमाके से उड़ा लिया। हालांकि, इसकी चपेट में पास में ही मौजूद मदरसा के छात्र आ गए। इस हमले में कम से कम 11 छात्रों की मौत हो गई। अफगानिस्तान में अगले साल राष्ट्रपति चुनाव होने हैं। इसके विरोध में आतंकी आम लोगों और अफसरों को निशाना बना रहे हैं।  20 अप्रैल को भी आतंकियों ने बादघिस में वोटर रजिस्ट्रेशन सेंटर पर रॉकेट से हमला किया था। इसमें एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी।

 

 

अफगानिस्तान के बल्ख प्रांत में अमेरिकी और अफगान फौजों के संयुक्त अभियान में 35 आतंकी मारे गए। न्यूज एजेंसी ने सोमवार को यह जानकारी दी। खामा प्रेस के मुताबिक, वालिद-5 ऑपरेशन के तहत अमेरिकी सेना ने तालिबान के ठिकानों पर हवाई हमले किए। इसमें अफगान फौज ने भी उनकी मदद की।  इस साल 27 जनवरी को काबुल में एम्बेसी वाले इलाके में आतंकी हमला हुआ था, जिसमें 130 लोगों की मौत हो गई थी।

Loading...