udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news भारी बरसात और सर्द हवाओं के बीच शराब विरोधी नारे

भारी बरसात और सर्द हवाओं के बीच शराब विरोधी नारे

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रुद्रप्रयाग। भारी बरसात और सर्द हवाओं के बीच शराब विरोधी नारों के साथ महिलाओं ने अपना धरना जारी रखा। बरसात के मौसम में भी महिलाओं ने अपने आक्रोश को ठंडा नहीं होना दिया और धरनास्थल पर पहुंचकर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी। आक्रोशित महिलाओं ने कहा कि जब तक शराब की दुकान को निरस्त नहीं किया जाता, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

 
दरअसल, पंचगांव महिला शराब विरोधी संगठन पिछले पांच दिनों से शराब की दुकान को लेकर आंदोलित है। संगठन से जुड़ी महिलाएं तहसील परिसर ऊखीमठ में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठी हुई है। रात को भी महिलाएं धरना दे रही हैं और जगह-जगह गश्त देकर शराब की दुकान के विरोध में मोर्चा खोले हुए हैं। आंदोलित महिलाओं का कहना है कि जब तक शराब की दुकान को निरस्त नहीं किया जाता आंदोलन जारी रहेगा। ग्रामीण महिला सतेश्वरी देवी, विमला देवी, कमला देवी, रोशनी देवी, उर्मिला देवी ने कहा कि पांच दिनों से महिलाएं धरना दे रही हैं और दिन के साथ ही महिलाएं रात को भी धरने पर डटी हुई हैं, बाजवूद इसके पुलिस प्रशासन कोई सुध नहीं ले रहा है। कहा कि महिलाएं रात के समय भी बाजार में नजर रखे हुए है, जिससे कोई भी शराब व्यापारी दुकान ना खोल सके। उन्होंने कहा कि यदि नगर पंचायत ऊखीमठ क्षेत्र में शराब की दुकान खोली गई तो महिलाएं आत्मदाह करने के लिए भी विवश हो जायेंगी।

 
वहीं बसुकेदार स्थित शराब की दुकान को दानकोट में खोलने की खबर सुनते ही महिला मंगल दल अध्यक्ष सुमति देवी के नेतृत्व में महिलाओं ने शराब व्यापारियों का घेराव कर दिया। इस दौरान महिलाओं ने आक्रोश जताते हुए सरकार, शासन व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और तीन किमी का सफर पैदल तय कर बसुकेदार पहुंची। यहां महिलाओं ने तहसील मुख्यालय पर धरना दिया। महिलाओं ने कहा कि शराब के कारण ग्रामीण क्षेत्रों का माहौल खराब होता जा रहा है। ग्रामीण महिलाओं का घरो से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है।

 
इधर, विजयनगर ठेके की दुकान को बेडूबगड़ में खोले जाने की भनक लगते ही सौड़ी की महिलाएं घटनास्थल पर पहुंची और बेडूबगड़ में जाम लगाते हुए धरना दिया। दोपहर दो बजे महिलाएं सडक़ों पर उतर आई और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। महिलाओं ने कहा कि युवा पीढ़ी नशे के कारण बर्बाद होती जा रही है। रोजगार करने के वजाय युवा नशे में धुत्त रहते हैं। ऐसे में परिवार में भी अशांति का माहौल पैदा हो जाता है। धरनास्थल पर पहुंचे एसआई विनय कुमार की बात को भी महिलाओं ने नहीं सुना, जिसके बाद तहसीलदार श्रेष्ठ गुनसोला महिलाओं को समझाने पहुंचे।

 

महिलाओं ने कहा कि किसी भी हालत में बेड़ूबगड़ में शराब की दुकान नहीं खुलने दी जायेगी। उन्होंने तहसीलदार से लिखित आश्वासन मांगा, जिसके बाद तहसीलदार ने महिलाओं को लिखित आश्वासन दिया कि बेडूबगड़ में शराब की दुकान को नहीं खोला जायेगा। इस मौके पर सीमा देवी, मुखारी देवी, सरोजनी, लक्षना देवी, सर्वेश्वरी सहित कईं महिलाएं मौजूद थी।

Loading...

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •