... ...
... ...

आतंकी  हमला: 31लोगों की मौत, 50 से अधिक घायल

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

काबुल. अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में आत्मघाती हमला हुआ है। इस धमाके में 31 लोगों की मौत हुई है। वोटर रजिस्ट्रेशन सेंटर के बाहर फिदायिन हमला हुआ,  50 से ज्यादा जख्मी हो गए। मारे गए लोग अपना वोटर रजिस्ट्रेशन कार्ड लेने के लिए लाइन में लगे हुए थे। तभी हमलावर वहां पहुंचा और खुद को धमाके से उड़ा दिया।

 

स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि रविवार को हुए हमले में मरने वालों की संख्या बढ़ भी सकती है। काबुल के कार्यवाहक पुलिस चीफ मोहम्मद दाऊद आमीन ने जानकारी दी कि आइडी डिस्ट्रिब्यूशन ऑफिस के दरवाजे पर एक एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया। अभी तक किसी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

 

बता दें कि पिछले हफ्ते कई वोटर रजिस्ट्रेशन सेंटर्स पर धमाके हुए थे। गुरुवार को अज्ञात हथियारबंद हमलावरों ने घोर प्रांत के वोटर रजिस्ट्रेशन सेंटर पर हमला कर दिया था और दो अधिकारियों को अगवा भी कर लिया था। इस हमले के पीछे तालिबान का हाथ होने की आशंका थी।

 

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में अगले साल राष्ट्रपति चुनाव होने हैं, इसलिए 4 अप्रैल को वोटर रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ था। इस बीच अफगानिस्तान में आतंकी संगठनों ने चुनाव अधिकारियों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। हालांकि, इस तरह के हालात से निपटने के लिए अफगान पुलिस और सेना के जवानों को पोलिंग बूथ पर आतंकी गतिविधियों से निपटने के लिए स्पेशल ट्रैनिंग भी दी जा रही है।

 

टोलो न्यूज ने अफगानिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता वाहिद मजरूह के हवाले से हमले में 31 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। बता दें कि अफगानिस्तान में अगले साल राष्ट्रपति चुनाव होने हैं। इसके लिए 4 अप्रैल को वोटर रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ था।  इस चुनाव के विरोध में आतंकियों ने आम लोगों और अफसरों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है।  इससे पहले शुक्रवार को आतंकियों ने बादघिस में वोटर रजिस्ट्रेशन सेंटर पर रॉकेट से हमला किया था। इसमें एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी।

पिछले हफ्ते भी कबाइली इलाके में आतंकियों ने हमला कर तीन चुनाव अधिकारियों और और दो पुलिसकर्मियों को अगवा कर लिया था। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में पारसी समुदाय के नए साल नवरोज के मौके पर भी आत्मघाती हमाल हुआ था। इसमें 30 से ज्यादा लोगों की मौत की खबर आई थी। हालांकि, इन हमलों की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली थी, लेकिन माना जाता है कि इसके पीछे आईएसआईएस का हाथ था।

 

बता दें कि दिसंबर में भी एक सुसाइड बॉम्बर ने डिप्लोमैटिक एरिया के पास खुद को ब्लास्ट किया था। इसमें 6 नागरिकों की मौत हो गई थी।  जनवरी में आतंकियों ने काबुल के एक लग्जरी होटल, एक भीड़ भरी गली और एक मिलिट्री कंपाउंड पर हमला किया था। इन हमलों में 130 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।

Loading...