udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news टिकट बंटवारे में महिला सशक्तिकरण पर रहेगा जोर : सुनीता प्रकाश

टिकट बंटवारे में महिला सशक्तिकरण पर रहेगा जोर : सुनीता प्रकाश

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुनीता प्रकाश ने की महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण देने की मांग

suneta उत्तराखण्ड
suneta उत्तराखण्ड

देहरादून। उत्तराखण्ड में भले ही पंचायती राज संस्थाओं में 50 प्रतिशत आरक्षण के जरिए महिलाओं के सशक्तिकरण का दावा किया जाता रहा है, लेकिन चुनाव में महिलाओं को टिकट देने के मामले में यहां के राजनीतिक दलों की यह इच्छा जाहिर नहीं होती। प्रमुख राजनीतिक दलों की महिला आरक्षण मुद्दे पर हां-नां, हां-ना किसी से छिपी नहीं है। कुछ राजनीतिक दलों का खुले तौर पर 33 फीसदी आरक्षण के सवाल पर नकारात्मक रवैया किसी से छुपा नहीं है।

इसलिए इन दलों से बहुत उम्मीद भी नहीं की जा सकती कि वे चुनावी मैदान में अधिक से अधिक महिलाओं को टिकट भी देंगे, लेकिन महिला आरक्षण की मांग का समर्थन करने वाले दो प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भी इस मामले में दो कदम पीछे ही हैं। साल 2017 में होने वाले उत्तराखण्ड विधानसभा के चुनाव के लिए महिलाओं ने जोरशोर से टिकट की मांग कर रखी है, लेकिन उनकी मांगों पर ये राजनीतिक दल कितना गौर फरमाते हैं यह तो आने वाले दिनों में ही पता चल पाएगा।

कांग्रेस की प्रदेश सचिव सुनीता प्रकाश का कहना है कि उनकी पार्टी 33 प्रतिशत महिलाओं को आरक्षण देने के प्रति कृतसंकल्प रही है। यही नहीं सुनीता प्रकाश महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण की भी जोर शोर से वकालत करती दिखाई देती हैं। सुनीता प्रकाश का कहना है कि यह कानूनी मसला है लेकिन जब हम हर जगह महिलाओं के बराबरी की बात करते हैं तो राजनीति में क्यों नहीं। आज महिलाएं हर क्षेत्र में आगे हैं। कुछ संस्थाओं में 50 फीसदी आरक्षण और कुछ में नहीं यह न्याय संगत नहीं है। आरक्षण की शुरूआत होनी चाहिए इस पर विलम्ब नहीं होना चाहिए।

50 फीसदी आरक्षण के मुद्दे पर अब सभी राजनीतिक दलों को एकजुट होने की जरूरत है ताकि इस पर कानून बनाया जा सके। वहीं सुनीता प्रकाश राजपुर विधानसभा सीट से टिकट की मजबूत दावेदार हैं। आगामी विधानसभा चुनाव में महिलाओं को टिकट दिए जाने पर वह कहती हैं कि जीतने वाली महिला प्रत्याशियों को ही टिकट दिया जाए। 2017 के चुनाव को लेकर कांग्रेस में टिकट मांगने वाली महिलाओं की संख्या अन्य दलों से अधिक देखी जा रही है। बहरहाल, कुछ ही दिनों में तय हो जाएगा कि कौन-सी पार्टी महिलाओं को ज्यादा तरजीह दे रही है। दो प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस और भाजपा हमेशा से महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण का समर्थन करते आए हैं, लेकिन उम्मीदवारों में सूची में उनकी यह इच्छा कम ही जाहिर होती हुई दिखाई देती है।

Loading...

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.